DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसून पहुंचने की नई तिथि अब पांच जून

मानसून पहुंचने की नई तिथि अब पांच जून

एक बार फिर मानसून ने केरल में पहुंचने की अपनी निर्धारित तारीख मिस कर दी है। मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि पांच जून तक अब मानसून केरल पहुंचेगा। इस बीच उत्तर भारत में धूल भरी आधी चलने हल्की बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। यह दौर अगले दो दिनों तक जारी रहने की संभावना व्यक्त की गई है।

मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में पिछले चार दिनों से ठिठका मानसून फिर सक्रिय होने को है। लक्ष्द्वीप की तरफ बारिश शुरू हो गई है और अगले दो-तीन दिनों में इसमें तेजी आने की संभावना है। विभाग ने कहा कि मानसून पांच जून को केरल में दस्तक दे सकता है। पहले उसने 30 मई, फिर चार जून को पहुंचने की बात कही थी।

अलनीनो के कारण मानसून के कमजोर रहने की भवष्यिवाणी मौसम विभाग पहले ही कर चुका है। अब मानसून की लेटलतीफी से यह खतरा और बढ़ गया है। देरी से केरल में मानसून दस्तक देता है तो उत्तर भारत में पहुंचने में भी देरी हो सकती है। हालांकि ऐसे कोई जरूरी नहीं है।

बता दें कि पिछले दस सालों में सिर्फ एक बार ही मानसून अपने तय समय यानी एक जून को केरल में पहुंचा है। वर्ना कभी जल्दी और कभी लेट पहुंचता है। पिछले साल छह जून को मानसून केरल पहुंचा था।

मौसम विभाग ने कहा कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और उत्तराखंड में अगले दो दिनों के दौरान दिन के तापमान में दो डग्रिी तक की गिरावट आ सकती है। इसकी वजह धूल भरी आंधियां एवं हल्की बारिश होगी। सोमवार को भी आंधी और बारिश से तापमान गिरा जिससे कई इलाकों में लू का प्रकोप घटा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मानसून पहुंचने की नई तिथि अब पांच जून