DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में आज हो सकती है बारिश, गर्मी से मिलेगी राहत

दिल्ली में आज हो सकती है बारिश, गर्मी से मिलेगी राहत

दिल्ली में आज सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए है। राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आज हल्की बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आज हल्की बारिश हो सकती है और आसमान में आम तौर पर बादल घिरे रहेंगे।

वहीं, अगले तीन दिनों में उत्तर भारत के कई हिस्सों में बारिश होने की संभावना है, जिससे लोगों को चिलचिलाती गर्मी से कुछ राहत मिलेगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक बीपी यादव ने कहा, पश्चिमी विक्षोभ के कारण एक से तीन जून के बीच उत्तर भारत के कई हिस्सों में गरज के साथ बारिश होने की संभावना है। जिन क्षेत्रों में बारिश की संभावना है उनमें दिल्ली, एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, उत्तरी राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश शामिल हैं।

मानसून चार जून को पहुंचेगा केरल
स्थितियां अनुकूल नहीं होने की वजह से दक्षिण पश्चिम मानसून के आने में देरी हो रही है। अब इसके केरल तट पर चार जून तक पहुंचने की संभावना है। पहले इसे 30 मई को ही देश की धरती पर दस्तक देना था।

भारतीय मौसम विभाग में प्रसिद्ध मौसम विज्ञान डी.एस. पाई ने रविवार को बताया, स्थितियां मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल नहीं हैं। उसके आने में देर होगी। इससे पहले मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण पश्चिम मानसूनी वर्षा केरल तट पर 30 मई को होगी। 21 मई तक दक्षिण पश्चिम मानसून बंगाल की खाड़ी में आगे बढ़ा और श्रीलंका के दक्षिण हिस्सों तक पहुंच गया। लेकिन वहां मानसून एक सप्ताह ठहर गया। अरब सागर में प्रति चक्रवात के कारण मानसून की गति धीमी है।

पाई ने बताया, प्रति चक्रवात की वजह से मानसून को शक्ति भी नहीं मिल रही है। हम आशा कर रहे हैं कि मानसून चार जून तक तट पर पहुंच जाएगा। मानसून को उसके अनिश्चित स्वभाव के लिए जाना जाता है। वह सामान्यत: अनुमानों पर खरा नहीं उतरता। इस साल मानसून श्रीलंका में हम्बानटोटा पहुंचने पर अपनी ताकत गंवा बैठा।

मानसून की उत्तरी सीमा वहां एक सप्ताह से स्थिर बनी हुई है। एक निजी मौसम अनुमान एजेंसी स्काईमेट ने कहा, फिलहाल केरल में बस थोड़ी बहुत बारिश हो रही है। हम तीन जून के बाद ही केरल में मानसून के पहुंचने की उम्मीद कर सकते हैं।
 
क्यों अहम है मानसून
दक्षिण पश्चिम मानसून का समय पर आगमन खरीफ फसलों जैसे धान की बुवाई के लिए अहम है। बारिश में कमी से उस पर असर पड़ सकता है। देश में खेती-बाड़ी बहुत हद तक मानसून पर निर्भर है क्योंकि केवल 40 फीसदी कृषि भूमि ही सिंचाई के अंतर्गत है। पिछले साल देश में 12 फीसदी कम वर्षा हुई थी जिससे खाद्यान्न, कपास और तिलहन के उत्पादन पर असर पड़ा था। वित्त वर्ष 2014-15 में कृषि की वृद्धि दर 0़2 फीसदी रही।

मरने वालों की संख्या 2248 हुई
देश के ज्यादातर हिस्सों में चिलचिलाती गर्मी का दौर जारी है। पिछले 24 घंटों में आंध्र प्रदेश में और 41 लोगों की मौत होने के साथ ही देश भर में लू लगने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2248 हो गई है। आंध्र में अभी तक 1677 लोगों की मौत हो चुकी है।

गर्मी से यूपी बेहाल
भीषण गर्मी के कारण समूचा उत्तर प्रदेश बेहाल है। आम तौर पर मई के इन आखिरी दिनों में पूर्वांचल के गोरखपुर और बस्ती जैसे जिलों में 37-38 डिग्री सेल्सियस से आगे न बढ़ने वाला तापमान अब 41-42 डिग्री दर्ज किया जा रहा है। रविवार को भी इलाहाबाद और बांदा सबसे गर्म स्थान रहे। इलाहाबाद में तापमान 46.8 डिग्री दर्ज हुआ तो बांदा में यह 46.4 डिग्री रहा। लखनऊ का पारा 44 डिग्री दर्ज किया गया।
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में आज हो सकती है बारिश, गर्मी से मिलेगी राहत