DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कम होगी बारिश, सूखे के आसार, क्या है मोदी सरकार की तैयारी?

कम होगी बारिश, सूखे के आसार, क्या है मोदी सरकार की तैयारी?

देश में सूखा पड़ने की आशंका अब बढ़ गई है। मौसम विभाग ने मानसून को लेकर नए सिरे से अपनी भविष्यवाणी तैयार कर ली है। पहले विभाग ने कहा था कि सामान्य के 93 फीसदी बारिश होगी लेकिन मंगलवार विभाग ने कहा कि बारिश सामान्य से 12 फीसदी कम यानी सिर्फ 88 फीसदी होगी। इसका मतलब है कि मध्यम स्तर का सूखा पड़ना तय है।

मौसम विभाग के अनुसार हालांकि बारिश यदि बीस फीसदी या इससे कम हो तब सूखे की स्थिति मानी जाती है। लेकिन सामान्य से 12 फीसदी कम बारिश भी खेती-बाड़ी के लिए बड़ा खतरा है। अलनीनो के कारण इस बार मानसून के कमजोर रहने की संभावना है। बता दें कि पिछले साल भी सामान्य से 11 फीसदी कम बारिश हुई थी। तब भी कई इलाके सूखे की चपेट में रहे थे।

मानसून के चार महीनों में देश भर में करीब 890 मिमी बारिश होती है। यदि 12 फीसदी कम बारिश होती है तो इसका मतलब यह हुआ कि इस बार कुल 784 मिमी बारिश होगी। मूलत यह मौसम का मोटा अनुमान है। कमी इससे भी ज्यादा हो सकती है। उधर, अभी केरल में भी मानसून दस्तक नहीं दे पाया है। पांच जून से पहले इसके पहुंचने के आसार नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:el nino effect on indian monsoon