DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब कार्ड की जरूरत नहीं, अपनाएं मोबाइल से पेमेंट करने का नया तरीका

अब कार्ड की जरूरत नहीं, अपनाएं मोबाइल से पेमेंट करने का नया तरीका

 

रिजर्व बैंक ने सोमवार को मोबाइल से भुगतान की नई सुविधा भारतक्यूआर को पेश कर दिया। यह भुगतान के लिए एक मानक क्यूआर कोड की तरह काम करेगा। इसमें कार्ड स्वाइप जरूरी नहीं होगा। रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने यहां भारतक्यूआर के उद्घाटन के अवसर पर कहा कि यह विभिन्न प्रणालियों पर चल सकता है। वर्तमान में मोबाइल वॉलेट की सुविधा देने वाली कंपनियों के अपने-अपने क्यूआर कोड हैं। 

दुकानदार के पास जिस कंपनी का क्यूआर कोड है आपके पास भी उसी का मोबाइल वॉलेट रहने पर भुगतान हो पाता है। कंपनी अलग-अलग होने पर भुगतान नहीं होता है, जबकि भारतक्यूआर कोड में यह अंतर खत्म हो जाएगा। इससे कार्ड से भुगतान कर सकते हैं। इसे रिजर्व बैंक के तहत आने वाले नेशनल पेंमेंट सिस्टम ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने तैयार किया है। 

भारतक्यूआर में कार्ड से भी भुगतान 

भारतक्यूआर में वीजा, मास्टर कार्ड और रुपये कार्ड जैसे डेबिट-क्रेडिट कार्ड से भुगतान की सुविधा भी होगी। जबकि अन्य क्यूआरकोड में केवल मोबाइल एप या वॉलेट से भुगतान की सुविधा होती है। 

कैसे है ज्यादा सुरक्षित

इसमें सीधे आपके खाता से राशि कटती है। इसकी वजह से कार्ड का पिन नंबर चोरी होने का खतरा नहीं रहता है। जबकि कार्ड से पीओएस मशीन से भुगतान की स्थिति में आपका पिन और जानकारी चुरा लेने का खतरा रहता है। 

दुकानदारों के लिए सस्ता 

भारतक्यूआर में कोई शुल्क नहीं है। जबकि वर्तमान में पीओएस मशीन खरीदने के खर्च और उसके बाद कार्ड से भुगतान पर संबंधित बैंक उनसे एक से तीन फीसदी तक का शुल्क वसूलते हैं। 

यह भी जानना जरूरी

1% से तीन फीसदी तक शुल्क लेते हैं बैंक दुकानदार से कार्ड भुगतान पर
15 सरकारी और निजी क्षेत्र के बैंक जुड़ चुके हैं भारतक्यूआर से
60 दिन में तैयार किया भारतक्यूआर को एनपीसीआई ने

अब कार्ड की जरूरत नहीं, अपनाएं मोबाइल से पेमेंट करने का नया तरीका
अब कार्ड की जरूरत नहीं, अपनाएं मोबाइल से पेमेंट करने का नया तरीका

 

क्या है क्यूआर कोड?

इसे क्विक रिस्पांस कोड कहते हैं। एक चौकोर खाने में काले और सफेद रंग से कूट भाषा में दुकानदार और उसके खाता की जानकारी लिखी रहती है। स्मार्टफोन के कैमरा से उसे स्कैन करके अपने मोबाइल वॉलेट या खाते से सीधे दुकानदार के खाते में भुगतान कर सकते हैं।

पेटीएम क्यूआर पर 600 करोड़ रुपये करेगी निवेश

वॉलेट भुगतान सेवा प्रदाता पेटीएम ने सोमवार को क्यूआर कोड आधारित भुगतान के क्षेत्र में 600 करोड़ रुपये का निवेश करने की घोषणा की है। इसके तहत हर इस साल के अंत तक देश के 650 जिलों में एक करोड़ व्यापारियों को जोड़ने की योजना है।

रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर ने कहा ऐसा

यह उपभोक्ताओं को आसान और बिना किसी परेशानी के सुरक्षित भुगतान की सुविधा मुहैया कराएगा। इससे डिजिटल भुगतान में और तेजी आने की उम्मीद है। -आर. गांधी

अब कार्ड की जरूरत नहीं, अपनाएं मोबाइल से पेमेंट करने का नया तरीका
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bharat qr code option will deduct the money directly from the account