DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर में एम्स और घाटपुर में बिजली परियोजना को मंजूरी

गोरखपुर में एम्स और घाटपुर में बिजली परियोजना को मंजूरी

केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश की दो महत्वपूर्ण परियोजनाओं को मंजूरी प्रदान की है। इनमें एक पूर्वी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) तथा दूसरे घाटमपुर में बिजली परियोजना की स्थापना शामिल है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में गोरखपुर एम्स के लिए 1011 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। प्रधानमंत्री 22 जुलाई को गोरखपुर में एम्स की आधारशिला रखेंगे। एम्स की स्थापना प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत की जा रही है। यह उत्तर प्रदेश (यूपी) का दूसरा तथा देश का 12वां एम्स है। यूपी में एक एम्स रायबरेली में बन रहा है।

गोरखपुर में स्थापित होने वाला एम्स 750 बेड का होगा। यह अत्याधुनिक आपातकालीन चिकित्सा सुविधाओं, ट्रामा बेड्स, आयुष बेड्स तथा प्राइवेट वॉर्ड से लैस होगा। अस्पताल, मेडिकल कॉलेज के मुख्य भवन के अलावा आवासीय ब्लॉक भी होगा, जिसमें डॉक्टरों, स्टाफ के आवास के अलावा हॉस्टल भी होंगे। इसमें आईसीयू और सुपर स्पेशियलिटी सुविधाएं होंगी। एम्स में मेडिकल कॉलेज एवं नर्सिंग कॉलेज में खुलेगा। जो राशि कैबिनेट ने मंजूरी की है वह एम्स के निर्माण के लिए है जबकि संचालन का खर्च अलग से केंद्र सरकार प्रदान करेगी। 

एम्स की स्थापना से पूर्वी उत्तर प्रदेश के पांच मंडलों गोरखपुर, आजमगढ़, बस्ती तथा देवी पाटन को फायदा होगा। इन पांच मंडलों के तहत राज्य के 14 जिले आते हैं। जबकि पश्चिमी बिहार के पांच जिलों पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, सारण, सीवान तथा गोपालगंज के लोग भी इससे लाभान्वित होंगे। यह संस्थान शोध भी करेगा। इस क्षेत्र में जापानी इन्सेफेलाइटिस का सर्वाधिक प्रकोप है। उसके शोध एवं उपचार में एम्स की स्थापना महत्वपूर्ण साबित होगी।

घाटमपुर पावर प्रोजेक्ट
इसी प्रकार आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने घाटमपुर थर्मल पावर प्रोजेक्ट को भी मंजूरी प्रदान कर दी है। इससे 1980 मेगावाट बिजली उत्पादित की जाएगी। यहां पर निवेली लिग्नाइट कॉरपोरेशन लिमिटेड तथा उत्तर प्रदेश विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के संयुक्त उपक्रम निवेली उत्तर प्रदेश पावर लिमिटेड द्वारा 660 मेगावाट क्षमता की तीन उत्पादन इकाइयां स्थापित की जाएंगी।

प्रोजेक्ट की लागत 17237 करोड़ रुपये होगी। इसमें ब्याज की राशि भी शामिल है। परियोजना की तीन यूनिटें क्रमश 52, 58 तथा 64 महीनों में बनकर तैयार हो जाएंगी। इससे प्रदेश में बिजली संकट दूर करने में मदद मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aiims in gorakhpur and ghatpur power project approved