DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश-मांझी के 'आम' विवाद में कूदी भाजपा, कहा नीतीश को आवाम की फिक्र नहीं

नीतीश-मांझी के 'आम' विवाद में कूदी भाजपा, कहा नीतीश को आवाम की फिक्र नहीं

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के बंगले में लगे आम के पेड़ों के फलों का कथित रूप से उनके द्वारा उपयोग करने से रोकने के लिए वहां 24 पुलिसकर्मी तैनात किए जाने के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फैसले को घटिया कदम बताते हुए भाजपा ने आज कहा कि राज्य की गिरती कानून व्यवस्था से परेशान अवाम की चिंता करने की बजाय वह आम की फिक्र कर रहे हैं।

नीतीश कुमार को सीधे निशाने पर लेते हुए भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि नीतीश कुमार किसी से लड़ने पर उसके प्रति अत्यधिक पूर्वाग्रही होकर राजनीति को बहुत निचले स्तर पर ले जाते हैं। जीतन राम मांझी को पहले मुख्यमंत्री बनाया फिर पद से हटाया और अब उन्हें उनके आवास पर लगे आम के पेड़ों की आम की चटनी तक खाने का अधिकार नहीं है।

इस सिलसले में उन्होंने 2010 की उस घटना का भी उल्लेख किया, जब पटना में भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित हुई थी और नीतीश कुमार ने भाजपा नेतृत्व को भोज पर आमंत्रित किया था, लेकिन तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनकी एक फोटो को शहर के चौराहों पर लगाए जाने से नाराज होकर उन्होंने वह दावत रद्द कर दी थी।

मांझी के निवास पर कथित रूप से आम के पेड़ों के फलों की रखवाली के लिए पुलिसकर्मियों को तैनात किए जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए शाहनवाज ने कहा, नीतीश कुमार ने ये जो घटिया कदम उठाया है इससे उन्होंने अपना ही नहीं, बल्कि बिहार और बिहार के लोगों का भी मजाक बनाया है। उन्होंने कहा, नीतीश कुमार के वर्तमान शासन में बिहार में डकैती, हत्याओं और लूट जैसे अपराधों के सारे रिकार्ड टूट गए हैं और वहां अब जंगल राज-2 स्थापित हो चुका है। लेकिन नीतीश कुमार को अवाम की चिंता नहीं बल्कि आम, लीची और कटहल की ही चिंता है।

मांझी ने आरोप लगाया है कि नीतीश कुमार ने उनके सरकारी निवास पर 24 पुलिसकर्मी इसलिए तैनात किए हैं जिससे कि उन्हें और उनके परिवार को बंगले में लगे आम के पेड़ों के फल का इस्तेमाल करने से रोका जा सके। उधर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे छोटा मामला बताते हुए कहा कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं है और आज अखबारों में यह खबर पढ़ने के बाद उन्होंने इस संबंध में डीजीपी से जानकारी मांगी है। उन्होंने कहा कि अगर मुझे पहले इस मामले की जानकारी दी गई होती, तो मैं सभी पेड़ों के आम और लीची तुड़वा कर उसके वर्तमान निवासी (मांझी) को दे देता।

शाहनवाज ने हालांकि कहा कि नीतीश अब इसे छोटी बात बता रहे हैं, लेकिन बिहार में पुलिस की कमी होने के बावजूद आम की रखवाली के लिए एक बंगले में 24 पुलिसकर्मी लगाना और दिल्ली में छह अन्य पुलिसकर्मियों को एक्सपोर्ट करना क्या छोटी बात है। उन्होंने कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था की सबसे बड़ी वजह राजनीति है। जब तक जदयू-भाजपा शासन था, कानून व्यवस्था कायम थी लेकिन भाजपा का साथ छोड़ कर राजद का दामन थामने के साथ ही सब बर्बाद हो गया।

नीतीश की चुटकी लेते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा, अब यूपीएससी जैसी परीक्षाओं के सामान्य ज्ञान पत्र में प्रश्न पूछे जाएंगे कि किस मुख्यमंत्री ने किस पूर्व मुख्यमंत्री को उसके बंगले से आम तोड़ने से रोका और जवाब दिया जाएगा, नीतीश कुमार ने।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nitish Kumar deploys cops to prevent Manjhi from enjoying fruits