DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार सुपर स्पेशियलिटी विभाग के भवन का निर्माण शुरू

उत्तर बिहार के गंभीर मरीजों को मुजफ्फरपुर में ही सभी चिकिसीय सुविधा मिलेगी। उन्हें बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी। केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग से हरी झंडी मिलने के साथ ही एसकेएमसीएच में चार सुपर स्पेशियलिटी विभाग के भवन का निर्माण शुरू हो गया है। भवण के निर्माण पर 86 करोड़ खर्च होंगे।

रांची की एक निर्माण एजेंसी को निर्माण का जिम्मा दिया गया है। एजेंसी को 2018 तक भवन का निर्माण कर एसकेएमसीएच को सौंप देना है। एजेंसी को भवन में बिजली, पानी सहित सभी सुविधाएं उपलब्ध करानी है। भवन के निर्माण के साथ ही करीब 70 करोड़ की लागत से उपकरण लगाये जाएंगे। उपकरण की खरीदारी को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग पहले ही एसकेएमसीएच के प्राचार्य डॉ. विकास कुमार से लिस्ट मांग चुका है। सुपर स्पेशियलिटी विभाग में नियोनेटोलॉजी, गैस्ट्रोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, बर्न व प्लास्टिक सर्जरी विभाग होगा। इसके अलावा काडियोलॉजी, न्यरोलॉजी विभाग के लिए भी भूमि का चयन कर लिया गया है।

बतादें कि प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना के तहत एसकेएमसीएच को आधुनिक बनाया जा रहा है। इसके लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2013 में ही एक हजार करोड़ रुपये एसकेएमसीएच को उपलब्ध करा दिये थे। इसमें छह सुपर स्पेशियलिटी विभाग, 250 एमबीबीएस छात्र-छात्राओं के लिए छात्रावास, ऑडिटोरियम, आधुनिक पोस्टमार्टम हाउस, लेक्चर रूम, म्यूजियम, दो हजार बेड वाला अस्पताल, मातृ सदन, ट्रामा सेंटर बनाना है। पुणे की एक कंपनी ने नक्शा तैयार किया था। इसमें से छात्रावास, लेक्चर रूम व पोस्टमाटर्म हाउस का भी निर्माण जल्द होगा।

इधर, एसकेएमसीएच प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना के फेज तीन के तहत भवन का निर्माण कराया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The building began to build four super specialty department