DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूत-पिचाश बने बाराती, शहर में निकली शिव बारात

महाशिवरात्रि पर शहर में भोले की बारात निकाली गई। बारात देखने के लिए सड़कों पर भीड़ उमड़ी। दूल्हा बने भगवान नीलकंठ व दुल्हन बनी देवी पार्वती श्रद्धालुओं के बीच आकर्षण का केंद्र रहे। बारात में शामिल नंदी, भूत-पिचाश, यक्ष-गंधर्व शिव भजन पर नाच रहे थे। शिव के रथ पर पुष्प व अबीर की वर्षा हो रही थी। पूरा माहौल उत्साह से लबरेज था। बारात में ‘शिव लहरी, बाबा शिव लहरी.., ‘ऊं नम: शिवाय.. आदि शिव भजनों पर श्रद्धालु झूम रहे थे।

गाजे-बाजे के साथ निकली बारात

गोला रोड स्थित श्रीरामभजन संकीर्तन आश्रम से दोपहर में बाबा भोलेनाथ की भव्य बारात निकली। राज्यसभा सांसद अनिल सहनी, डीएम धर्मेन्द्र सिंह व गरीबनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी पंडित विनय पाठक ने विधिवत पूजा-अर्चना कर बारात रवाना की। शोभा यात्रा के संयोजक सह पूर्व विधायक केदारनाथ प्रसाद के नेतृत्व में आश्रम से बारात निकलकर गोला रोड, दुर्गास्थान होते हुए मक्खन साह चौक पहुंची। वहीं गरीबनाथ मंदिर से एक रथ पर बाबा गरीबनाथ के स्वरूप को रथ पर रखकर आरती की गई। शहर में सुख व शांति के लिए आर्शीवाद मांगा गया। तत्पश्चात जयकारे के साथ बाबा का रथ बारात में शामिल होने के लिए रवाना हुआ। मक्खन साह चौक पर पूरी बारात एक साथ आगे की ओर बढ़ी। बारात की अगुआई शिव बारात की झांकी कर रही थी। बारात कल्याणी, मोतीझील, धर्मशाला, इस्लामपुर, सरैयागंज, सूतापट्टी, कंपनीबाग, टावर होते हुए पुन: मंदिर पहुंची। इस दौरान शिवभक्त अबीर उड़ा रहे थे। आने-जाने वाले राहगीरों को भी अबीर लगाकर महाशिवरात्रि की बधाई दे रहे थे।

जगह-जगह श्रद्धालुओं ने किया स्वागत

शिव बारात का विभिन्न चौक-चौराहों पर स्वागत किया गया। साहू रोड, मोतीझील, सरैयागंज में बारात पर पुष्प वर्षा की गई। बारात के आगे-आगे शोभा यात्रा संयोजक चलकर लोगों को आभार प्रकट कर रहे थे। वहीं विभिन्न चौराहों पर हिमलिंग बनाकर बारात के स्वागत की तैयारी की गयी थी।

अन्य मंदिरों से भी निकली शोभा यात्रा

जूरन छपरा स्थित लक्ष्मीश्वर महादेव मंदिर महामाया स्थान से भी भव्य शोभा यात्रा निकाली गयी। शोभा यात्रा जूरन छपरा, इमलीचट्टी होते हुए ब्रह्मपुरा, लक्ष्मी चौक होते हुए पुन: मंदिर पहुंची। इससे पूर्व आचार्य रंजीत तिवारी ने विधिवत पूजा-अर्चना कर शोभा यात्रा को रवाना किया। मौके पर छटु सहनी, हरिओम कुमार, अंजनी, मनोज कुमार, रोहित चौहान, त्रिभुवन कुमार थे। उधर, गन्नीपुर स्थितबाबा आनंद भैरवनाथ मंदिर पूजा समिति की ओर से झांकी निकाली गयी। झांकी शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए पुन: मंदिर पहुंची। रात्रि में शिव विवाह कीर्तन का आयोजन किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Barati became ghost-Pichas, the procession turned Shiva