DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार की बेटी चेतना दक्षिण कोरिया में बिखरेगी कत्थक का जलवा

बिहार की बेटी चेतना दक्षिण कोरिया में बिखरेगी कत्थक का जलवा

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना की स्वयंसेवक छात्रा चेतना दक्षिण कोरिया में कत्थक का जलवा बिखेरेगी। युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली के द्वारा अंर्तराष्ट्रीय कार्यक्रम के लिए पूरे बिहार से एक मात्र चेतना का चयन किया गया है। यह पहला मौका है जब विश्वविद्यालय से किसी छात्रा का अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर चयन हुआ है।

पूरे देश से 150 सदस्यों की टीम दक्षिण कोरिया में अंर्तराष्ट्रीय युवा विनिमय कार्यक्रम में भारतीय कला का प्रदर्शन करेगी। 2014 में नई दिल्ली में आयोजित गणतंत्र दिवस परेड के दौरान कत्थक में बेहतर प्रदर्शन के आधार पर युवा र्काक्रम एवं खेल मंत्रालय ने विश्वविद्यालय की छात्रा का चयन किया है। चेतना विश्वविद्यालय से संबद्ध संस्था अवधूत भगवान राम कॉलेज सासाराम में स्नातक पार्ट टू में जंतु विज्ञान ऑनर्स की छात्रा है।

पढ़ाई के साथ वह एनएसएस की गतिविधियों में भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लेती है। मूल रूप से सासाराम के मुरादाबाद के रहने वाले चेतना के पिता नरेन्द्र कुमार पेशे से व्यावसायी है और मॉ देवमुन्नी देवी अवधूत भगवान कॉलेज सासाराम में समाजशास्त्र विभाग में शिक्षिका है। विश्वविद्यालय के एनएसएस के समन्वयक डा. प्रसुन्जय कुमार सिन्हा ने बताया कि देश से 150 सदस्सीय टीम दक्षिण कोरिया के लिए दिल्ली से रवाना हो गयी है।

शुक्रवार से शुरू होने वाले पन्द्रह दिनों के कार्यक्रम में भारतीय टीम दक्षिण कोरिया के ऐतिहासिक स्थलों एवं शहरों का अध्ययन करेगी। साथ ही भारतीय संस्कृति, गीत, नृत्य और संगीत का कार्यक्रम भी पेश किया जायेगा। दक्षिण कोरिया के कई शहरों में कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे। इधर अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर विश्वविद्यालय की छात्रा का चयन होने पर कुलपति डा. अजहर हुसैन ने बताई दी है और कहा कि यह पूरे बिहार के लिए गौरव की बात है।

2012 में भी हुआ था एक छात्रा का चयन
विश्वविद्यालय से वर्ष 2012 में भी एक छात्रा का चयन अंतरराष्ट्रीय युवा कार्यक्रम के लिए हुआ था लेकिन पारिवारिक समस्या के कारण छात्रा हिस्सा नहीं ले पायी थी। एनएसएस समन्वयक डा. प्रसुन्जय सिन्हा ने बताया कि सुमित्रा महिला कॉलेज डुंमराव की छात्रा निमिशा पांडेय का चयन हुआ था लेकिन वह भाग नहीं ले सकी। पहली बार कोई छात्रा अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में भाग ले रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार की बेटी चेतना दक्षिण कोरिया में बिखरेगी कत्थक का जलवा