DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दस साल में पूरी तरह पलट गया मानसून

दस साल में पूरी तरह पलट गया मानसून

मौसम में आ रहे बदलावों का ही असर है कि पिछले 10 साल में सिर्फ एक बार ही मानसून समय पर आया है। 2005 से 2014 तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो सिर्फ 2013 में ही मानसून निश्चित समय पर यानी 1 जून को केरल पहुंचा है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक 100 वर्षों में ज्यादातर समय मानसून समय पर ही पहुंचता रहा है लेकिन पिछले एक दशक में स्थिति उलट चुकी है।

इसलिए हुआ बदलाव: मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार मानसून के सक्रिय होने और केरल तक पहुंचने, फिर वहां से आगे जाने में दो प्रमुख कारक हैं। पहला समुद्र का तापमान और दूसरा उस देश की धरती का तापमान। चूंकि इनमें अब बदलाव हो रहा है, इसलिए मानसून पर भी इसका असर साफ दिख रहा है।

आगे भी बिगड़ी चाल: वैज्ञानिकों के अनुसार सिर्फ केरल पहुंचने तक ही मानसून की चाल नहीं बिगड़ी है बल्कि उसके बाद आगे बढ़ने की तिथियों में भी अंतर आया है। कई बार यह प्रस्ताव आ चुका है कि मानसून आगमन की तिथियां बदल दी जाएं लेकिन सरकार डरती है कि कहीं कृषि प्रधान देश में इस कदम से नया विवाद न खड़ा हो जाए।

पिछले दशक में सिर्फ एक बार समय पर
वर्ष         मानसून की तिथि
2014       06 जून
2013       01 जून
2012      05 जून
2011      29 मई
2010      31 मई
वर्ष        मानसून की तिथि
2009     23 मई
2008    31 मई
2007    28 मई
2006     26 मई
2005    07 जून

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दस साल में पूरी तरह पलट गया मानसून