DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिरी सफेद गैंडे सुडान को बचाने की मुहिम

आखिरी सफेद गैंडे सुडान को बचाने की मुहिम

दुनिया में सिर्फ एक सफेद नर गैंडा बचा है। सुडान नाम का यह गैंडा विलुप्त होती अपनी प्रजाति की अंतिम उम्मीद है। इस गैंडे को बचाने के लिए क्राउडफंडिंग कैंपेन के जरिए 70 लाख से अधिक रुपये इकट्ठा हो चुके हैं। सुडान को शिकारियों से बचाने के लिए 40 हथियारबंद लोगों का दस्ता हमेशा उसके आसपास रहता है। हाल में ही बॉलीवुड अभिनेत्री नरगिस फाखरी ने इस गैंडे के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए इसके साथ अपनी तस्वीर खिंचवाई थी।

केन्या के ओल पेजेटा वन्य पशु अभयारण्य में दुनिया का एकमात्र उत्तरी सफेद नर गैंडा मौजूद है। दुनिया में इस प्रजाति के सिर्फ चार गैंडे बचे हैं जिनमें सुडान एक मात्र नर गैंडा है। तीन मादाओं में दो केन्या में ही हैं जबकि एक मादा अमेरिका के सैन डिएगा सफारी में है। सुडान की प्रजाति को बचाने के लिए सोशल मीडिया पर बड़ी मुहिम चलाई जा रही है।

क्राउड फंडिंग से किए 70 लाख इकट्ठा
ओल पेजेटा पार्क के अधिकारियों ने सुडान की सुरक्षा के लिए 40 हथियारबंद लोगों को रखा है। सुडान की देखभाल में होने वाले खर्च के लिए क्राउडफंडिंग के जरिए पैसे इकट्ठा किए जा रहे हैं। सुडान के लिए क्राउडफंडिंग साइट ‘गोफंडमी’के जरिए 75 हजार पाउंड लगभग 73 लाख रुपये इकट्ठा करने का लक्ष्य रखा गया है। अभी तक 74 हजार पाउंड की राशि जमा हो चुकी है। इस मुहिम को अभी तक 42 हजार लोग सोशल मीडिया पर शेयर कर चुके हैं। इनमें 35 हजार लोगों ने फेसबुक और सात हजार लोगों ने ट्विटर पर शेयर किया है।

2009 से हो रही प्रजाति बचाने की मुहिम
सूडान को 2009 में अपनी प्रजाति की दो मादा राइनो के साथ चेक गणराज्य के एक चिडियाघर से ओल पेजेटा पार्क में लाया गया था। ओल पेजेटा को गैंडों के संरक्षण में विशेषज्ञता हासिल है। गैंडों को लेकर इसका ब्रीडिंग प्रोग्राम भी काफी सफल रहा है, इसीलिए सुडान को यहां रखने का फैसला किया था। हालांकि अभी तक सुडान के लिए चलाया गया ब्रीडिंग प्रोग्राम असफल रहा है। इस प्रजाति पर संकट तब ज्यादा बढ़ गया था जब पिछले साल सेन डिएगो सफारी में एक और नर गैंडे की मौत हो गई थी। सफेद गैंडे 40 से 50 साल तक जीवित रह सकते हैं। सुडान अभी 42 साल का है।

पिछले साल 1215 गैंडों का शिकार हुआ
सुडान की सुरक्षा में लगे 40 हथियारबंद लोगों के अलावा इसके शरीर पर रेडियो ट्रांसमीटर भी लगाया गया है। सुरक्षा के लिए इसका सींग भी निकलवा दिया गया है ताकि शिकारियों की इसमें कोई रुचि न रहे। बाजार में इसके एक सींग की कीमत लगभग 75 हजार डॉलर है। साल 2007 में शिकारियों ने दक्षिण अफ्रीका में 13 गैंडों को मार दिया था। वहीं पिछले साल 1,215 गैंडों की हत्या शिकारियों ने की थी।

कैसा होता है सफेद गैंडा?
गैंडों की पांच प्रजातियों में से एक सफेद गैंडे का सिर बड़ा और शरीर भारी होता है। भारी शरीर के साथ इसकी गर्दन छोटी और छाती चौड़ी होती है। यह हाथियों की तरह दुनिया के कुछ स्तनपायियों में से एक माना जाता है। अभी तक के सबसे भारी सफेद गैंडे का वजन 4500 किलोग्राम रिकॉर्ड किया गया है। इसकी नाक धरती के जानवरों में सबसे चौड़ी होती है इसलिए इसकी सूंघने की क्षमता भी बेहतर होती है। यह 40 से 50 साल तक जीवित रह सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The last white rhinoceros campaign to save Sudan