DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंद्रह साल में कंप्यूटर से तेज हो जाएगा इंसानी दिमाग

पंद्रह साल में कंप्यूटर से तेज हो जाएगा इंसानी दिमाग

कंप्यूटर से तेज इंसानी दिमाग की कल्पना नई चीज नहीं है। लेकिन जल्द ही यह सच होगा। निकट भविष्य में इंसान को कृत्रिम तरीके से बुद्धिमान बनाना संभव होने जा रहा है। गूगल (गूगल, टेक30) के इंजीनियरिंग निदेशक रे कुर्जवेल ने यह भविष्यवाणी की है।

कुर्जवेल ने एक्सपोटेंशियल फाइनेंस कांफ्रेस में कहा कि 2030 के दशक तक इंसान संकर बन जाएगा। उन्होंने कहा कि इसका मतलब है कि हमारा दिमाग सीधे 'क्लाउड' से जुड़ने में सक्षम होगा, जहां हजारों कंप्यूटर होंगे। वे कंप्यूटर हमारी मौजूदा बुद्धि को बढ़ा देंगे। कुर्जवेल ने कहा कि इनसानी मस्तिष्क नैनोबोट्स के जरिये जुड़ेगा। नैनोबोट्स डीएनए के तंतुओं से बने सूक्ष्म रोबोट होंगे।

गूगल, टेक30 के निदेशक ने कहा, तब हमारे सोचने-समझने की क्षमता जैविक और गैर-जैविक बुद्धि का मेल होगी। कुर्जवेल ने कहा, हजारों कंप्यूटरों से निर्मित क्लाउड जितना बड़ा और जितना जटिल होगा, हमारी सोच या बुद्धि उतनी अधिक उन्नत होगी। उन्होंने कहा कि यह सब 2030 के दशक  के अंत तक या 2040 के दशके के आरंभ तक सच हो जाएगा।

कुर्जवेल का मानना है कि आने वाले समय में इनसानी सोच पर गैर-जैविक बुद्धि प्रभावी होगी। उन्होंने कहा, हम पूरी तरह अपने मस्तिष्क का बैकअप रखने में सक्षम होंगे। हम धीरे-धीरे खुद को मिला और बढ़ा रहे हैं। मेरे विचार में, अपनी सीमाओं को लांघना इनसानी स्वभाव है और हम उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

कुर्जवेल करते रहे हैं भविष्यवाणी
कुर्जवेल को दुनिया के प्रमुख खोजकर्ताओं में शुमार किया जाता है। उन्होंने 1990 के दशक में 147 भविष्यवाणियां की थीं। साल 2009 में उन्होंने अपनी भविष्यवाणियों की समीक्षा करने पाया कि उनमें से 86 फीसदी सही साबित हुई थीं। उनकी सही हुई भविष्यवाणियों में लोगों द्वारा 2009 तक पोर्टेबल कंप्यूटर का इस्तेमाल किए जाने, तार के गैरजरूरी हो जाने और चश्मे के शीशे पर कंप्यूटर डिस्प्ले होने की बात शामिल थी। उन्होंने 2009 तक बिना ड्राइवर स्वयं संचालित होने वाली कारों की बात कही थी। कुर्जवेल ने कहा, मैं पूरी तरह गलत नहीं था। यदि मैंने 2015 के लिए कहा होता तो यह अधिक सही होता, लेकिन यह अब भी मुख्यधारा के इस्तेमाल में नहीं आया है। 
 
खतरों को लेकर सचेत
कृत्रिम बुद्धि का इंसानी मस्तिष्क में हस्तक्षेप खतरनाक भी हो सकता है। इस आशंका को लेकर कुर्जवेल ने कहा कि तकनीक का विकास करते समय हम एक नैतिक सीमा में रहकर काम करते हैं जो संभावित खतरों को नियंत्रित करता है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ray Kurzweil, Human brains could be connected to the cloud by 2030