DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के युवकों ने बनाया महिलाओं के लिए सुरक्षा एप

बिहार के युवकों ने बनाया महिलाओं के लिए सुरक्षा एप

बिहार के पीयूष आनंद और उनके भाई सुमंत कुमार ने महिलाओं की सुरक्षा के मोबाइल एप ‘कॉप बुक’ बनाया है। इससे संकट में फंसी महिलाओं की सूचना एक क्लिक करते ही मददगारों के पास पहुंच जाएगी। इसका सफल प्रयोग कोलकाता और पटना में हो चुका है। इसे बनाने में लगभग दो साल का वक्त लगा है। यह एप देश के 21 शहरों में काम कर रहा है।

दिखाएगा रास्ता
मुसीबत में फंसी महिलाएं अगर अपने एंड्रायड फोन से एप का एक बटन दबाएंगी तो उन्हें नजदीकी पुलिस स्टेशन तक पहुंचने का रास्ता दिखेगा। अगर महिला या एप यूजर इस स्थिति में नहीं है कि वह पुलिस स्टेशन तक पहुंच सके तो एप नजदीकी पुलिस स्टेशन के प्रभारी को मोबाइल पर कॉल कर मदद की गुहार लगाएगा। अगर संबंधित पुलिस अधिकारी लगातार दो बार रिंग होने के बावजूद फोन नहीं उठा सका तो उस इलाके के उससे बड़े अधिकारी के पास फोन अपने आप लग जाएगा। तमिलनाडु सरकार ने भी एप के बारे में जानकारी मांगी है।

मददगार को फोन
पुलिस अधिकारी के अलावा यह एप यूजर के तीन नामांकित लोगों को भी मैसेज भेजकर सूचना देगा। इसके लिए उपभोक्ता को कोई शुल्क भी अदा नहीं करना पड़ेगा। यह मुसीबतों में फंसी उन महिलाओं के लिए काफी कारगर साबित हो सकता है जिनके मोबाइल में बैलेंस नहीं होगा। अगर तीनों में से किसी से बात नहीं हो सकी तो पांच किलोमीटर के दायरे में कॉप बुक एप का उपयोग कर रहे एप यूजर्स को मदद के लिए मैसेज चला जाएगा। अगर उपभोगकर्ता मदद के लिए तैयार हो जाता है तो मुसीबत में फंसी महिला का लोकेशन भी पता चल जाएगा। यह एप महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी है।

एप्स बनाने में लगा दो साल का समय
एप बनाने वाले पीयूष आनंद और सुमंत के अनुसार निर्भया कांड के बाद से ही इस तरह के मोबाइल एप बनाने के बारे में मैंने और मेरे बड़े भाई ने योजना बनाई थी। एप्स बनाने में करीब दो साल का समय लगा। इसका प्रयोग कोलकाता और पटना में सफलतापूर्वक किया जा चुका है। यह कई खूबियों से लैस है। यह युवतियों के लिए काफी उपयोगी साबित होगा। इसके प्रयोग से कोई टेम्प फाइल नहीं बनती और न ही कोई अतिरिक्त अवांछित फाइलें मोबाइल में अनावश्यक जगह घेरती हैं। पीयूष बताते हैं कि वे अपनी पढ़ाई-लिखाई के बाद अतिरिक्त बचे समय में इस एप पर काम करते रहे। एप्स ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे इसके लिए दोनों भाइयों ने राज्य सरकार से भी मदद मांगी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar made the young men to women security app