अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेढ़ माह बाद विधानसभा चुनाव का लापता प्रत्याशी राधेश्याम सैनी गिरफ्तार

डेढ़ माह बाद विधानसभा चुनाव का लापता प्रत्याशी राधेश्याम सैनी गिरफ्तार

राष्ट्रीय कांग्रेस जे प्रत्याशी राधेश्याम सैनी का अपहरण नहीं हुआ था। वह वोटरों की सहानुभूति बटोरने के लिए खुद ही गायब हुआ था। जांच में इसका खुलासा होने पर शुक्रवार को पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। शनिवार को उसे जेल भेज दिया गया। राधेश्याम सैनी नौ फरवरी को शाम चुनाव प्रचार कर रहे थे। इसी बीच कपूर कंपनी से राधेश्याम अचानक गायब हो गए थे। साथ प्रचार कर रहे समर्थक और गनर भी अवाक रह गए थे। बरामदगी के लिए परिवार वालों ने मझोला थाने में हंगामा भी किया था। 12 फरवरी को राधेश्याम मंडी समिति के पीछे आवास विकास के आवासों के सामने मालीबाग में पड़े मिले थे। पुलिस ने सवाल-जवाब किए तो राधेश्याम की कहानी फर्जी साबित हुई। वोटरों की सहानुभूति बटोरने के लिए उन्होंने यह नाटक रचा था। तभी से पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। इस मामले में बोलेरो चालक दिनेश शर्मा की तरफ से राधेश्याम सैनी के खिलाफ मझोला थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। शुक्रवार रात पुलिस ने राधेश्याम सैनी को लाइनपार क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उन्होंने अपना जुर्म कबूल भी कर लिया। इसकी पुष्टि एएसपी डाक्टर यशवीर सिंह ने की।

ढाई फिट लंबा और सवा फिट गहरे गड्ढा पुलिस की जांच में बना अहम हिस्सा

मुरादाबाद। पुलिस को सूचना दी गई कि मालीबाग के पास राधेश्याम सैनी गहरे गड्ढे में पड़े हुए हैं। पुलिस ने मौका-मुआयना किया तो ढाई फिट लंबा और सवा फिट गहरा गड्ढा मिला। इसके बाद ही पुलिस ने राधेश्याम सैनी से सवाल-जवाब शुरू किए। उस वक्त ही साबित हो गया था कि राधेश्याम का अपहरण नहीं हुआ था। सिर्फ सनसनी फैलाने के लिए कहानी गढ़ी गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:missing candidate of the assembly elections was arrested