DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एडिशनल कमिश्नर के दफ्तर पर महिला रसोईयों का हंगामा, चूडियां फेंकी

मेरठ। हमारे संवाददाता

करीब दो हफ्तों से चौधरी चरण सिंह पार्क में धरनारत महिला रसोईयां का गुस्सा गुरुवार को फूट पड़ा। नारेबाजी करती हुईं महिला रसोइयां एडिशनल कमिश्नर के दफ्तर में घुस गईं और चूड़ियां फेंककर गुस्से का इजहार किया। उनका कहना था कि उत्पीड़न के खिलाफ कोई उनकी आवाज सुनने को तैयार नहीं है। मांगें पूरी होने तक आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया।

बेसिक शिक्षा के अधीन विद्यालयों में मिड डे मील बनाने वाली महिला रसोइयों ने मानदेय बढ़ाने को लेकर 22 मई से कमिश्नरी पार्क में बेमियादी धरना शुरू कर दिया था। अजगर किसान मजदूर संगठन इनका नेतृत्व कर रहा है। गुरुवार को भी महिलाएं धरने पर डटी रहीं। दोपहर में हाथों में बैनर लेकर कमिशनर कार्यालय के गेट पर पहुंचीं। सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं रुकीं। नारेबाजी करते हुए एडिशनल कमिश्नर राम नारायण धामा के दफ्तर में घुस गईं। नारेबाजी करते हुए जमकर हंगामा करते हुए एडिशनल कमिश्नर का घेराव किया। हंगामे की सूचना पर पुलिस भी पहुंच गई। इस दौरान महिलाओं ने चूड़ियां फेंककर विरोध प्रकट किया। कुछ चूड़ियां एडिशनल कमिश्नर की मेज तक पहुंच गईं। महिलाओं के तेवर देख कार्यालय में खलबली मच गई।

महिलाओं का कहना था कि उन्हें महज एक हजार रुपये मानदेय दिया जा रहा है। स्कूल में खाना पकाने के अलावा अन्य कार्य भी कराए जाते हैं। विरोध करने पर शिक्षक हटाने की धमकी देते हैं। यहां के बाद महिलाएं फिर धरने पर पहुंच गईं। उधर, अजगर किसान मजदूर संगठन के अध्यक्ष डॉ महक सिंह ने कहा कि शुक्रवार से अभियान चलाया जाएगा, जिसमें जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को चूड़ियां भेंट की जाएंगी। प्रदर्शन के दौरान पिंकी, ममता, गीता, बबीता, कमला, जयवती आदि रहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Women's kitchen crew thrown at the office of the Additional Commissioner