DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपीएसआईडीएसी भ्रष्टाचार का अड्डा, यहां सब एक दूसरे की खोल रहे पोल : सतीश महाना

-मंत्री सतीश महाना बोले- निगम भ्रष्टाचार का अड्डा, वहां सब खोल रहे एक-दूसरे की पोलराज्य मुख्यालय - विशेष संवाददातामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आफिस ने उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास निगम (यूपीएसआईडीसी) में 1100 करोड़ रुपये के टेंडर में घपलेबाजी पर सतर्कता विभाग से 15 दिन में रिपोर्ट तलब की है। इस बीच औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने यूपीएसआईडीसी को भ्रष्टाचार का अड्डा बताते हुए कहा है कि यहां सब एक दूसरे की पोल खोल रहे हैं। सतीश महाना ने 'हिन्दुतान' से बातचीत में कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार इस मामले की जांच कराई जाएगी और जो दोषी होंगे वह बच नहीं पाएंगे। इन सब पर सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि यूपीएसआईडीसी में बहुत से मामले सामने आ रहे हैं, एक दूसरे की शिकायत हो रही है। असल में यूपीएसआईडीसी के मुख्य अभियंता अरुण मिश्रा ने मुख्यमंत्री को भेजी गई शिकायत में कहा गया है कि यूपीएसआईडीसी में टेंडर जारी करने में करोड़ों की कमीशनबाजी हुई। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि आईएएस अमित घोष ने वहां एमडी रहते हुए 2 अगस्त 2016 से 14 अप्रैल 2017 तक नियम के खिलाफ 1100 करोड़ रुपये के टेंडर बांटे। इस पर मुख्यमंत्री के विशेष सचिव आदर्श सिंह ने सतर्कता विभाग के महानिदेशक से कहा है कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए 15 दिनों में आख्या दी जाए। वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अमित घोष फिलहाल प्रतीक्षारत चल रहे हैं। उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए बना निगम का मुख्यालय कानपुर में हैं और इसके कई प्रोजेक्ट संदेह के घेरे में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:upsidc is center of corruption : cm yogi