DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिन मशीनों में निगलेगी गड़बड़ी, वहीं मशीने होंगी सील

एक पखबारे से ठप पड़ी पेट्रोल पम्पों पर घटतौली की जांच का काम शनिवार से शुरू होगा। इसबार जिन डिस्पेंसिंग यूनिट में घटतौली मिलेगी, केवल उनको ही सील किया जाएगा। अन्य डिस्पेंसिंग यूनिटों को चलने दिया जाएगा। पेट्रोल पम्प की सभी मशीनों को सील नहीं किया जाएगा। पेट्रोल पम्पों पर कार्रवाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी।

जल्दी होगी जांच

जांच के दौरान पेट्रोल पम्प की सभी डिस्पेंसिंग यूनिटो को एक साथ खोला जाएगा। एक साथ सभी यूनिटो की जांच होगी। जिन यूनिटो में घटतौली या चिप के निशान मिलेंगे उनको सील कर दिया जाएगा। अन्य यूनिटों को फिर से उनके वास्तविक स्वरूप में बंद कर दिया जाएगा। जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने बताया कि इस बार लिखा-पढ़ी करने में अधिकारियों को देरी न लगे इसे लेकर एक फार्मेट तैयार किया गया है। जिसमें सभी तरह से कॉलम बनाए गए हैं। टीम को केवल इसमें जांच के दौरान मिली कमियां व खामियां भरनी होगी। इससे जांच का काम जल्दी पूरा हो जाएगा।

जांच के लिए बनी 10 टीमें

पेट्रोल पम्पों की जांच के लिए 10 टीमें बनाई गई हैं। इनमें एक मजिस्ट्रेट, एक एआरओ, ऑयल कम्पनी के अधिकारी, बांट माप निरीक्षक, ओईएम (मशीन के ओरिजनल पुर्जे बनाने वाली कम्पनी) के इंजीनियर, पुलिस का एक सब इस्पेक्टर, एक हेड कांसटेबल शामिल होंगे।

आठ दिनों में होगी 157 पम्पों की जांच

प्रशासन आठ दिनों में जिले के सभी पेट्रोल पम्पों की जांच को पूरा करने की रणनीति तैयार की है। राजधानी में 202 पेट्रोल पम्प हैं। इनमें से 45 पम्पों की जांच पूरी हो चुकी है। बचे हुए 157 पम्प आठ दिनों में होगी। एक टीम एक दिन में दो पम्पों की जांच करेगी।

एक सप्ताह में दुरुस्त करें पम्पों पर जनसुविधाएं

प्रशासन ने पेट्रोल पम्पों पर जनसुविधाओं की स्थित दुरुस्त करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है। इस दौरान सभी 202 पम्पों को पानी, शौचालय, हवा, प्राथमिक चिकित्सा,अग्निशमन की व्यवस्था उपलब्ध कराने व ठीक करने को कहा है। इसके बाद सुविधाओं में कोताही पाए जाने पर पम्पों पर कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:petrol pump