DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

12 साल बाद मिला 40 हजार लोगों को पानी

-वर्ष 2005 से राजाजीपुरम के ए, बी,सी और डी ब्लाक के लोग लड़ रहे थे लड़ाई-पानी की सप्लाई घर पहुंचते ही लोगों ने मनाई खुशियां, एक-दूसरे को बांटीं मिठाइयांलखनऊ। वरिष्ठ संवाददाताराजाजीपुरम के चार ब्लाक के 40 हजार लोगों को राहत मिल गई है। 12 सालों से पानी की सप्लाई के लिये लड़ रहे लोगों की समस्या का समाधान निकल आया। यहां वर्ष 2014 में बनकर तैयार हुई नई पानी की टंकी चालू कर दी गई। इसका पानी घरों में पहुंचते ही लोग खुशी से झूमने लग गए।ओंकारेश्वर सेवा संस्थान के महासचिव सुधीर त्रिपाठी ने बताया कि वर्ष 2005 में राजाजीपुरम के बी ब्लाक में बनी पानी की टंकी क्षतिग्रस्त होने से सप्लाई मिलना बंद हो गया था। जिसके चलते लोगों को हैंडपंप अथवा दूसरे स्थानों पर लगे सबमर्सिबल से रोजाना की जरूरत का पानी मिल रहा था। इस दिक्कत से जूझ रहे लोगों को ने पीड़ा से मुक्ति पानी के लिए कई आंदोलन, धरना और प्रदर्शन स्थानीय लोगों ने किये लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। वर्ष 2007 में स्थानीय लोगों के आंदोलन को देखते हुए एक प्रस्ताव बनाया गया जिसमें तय किया गया कि एक नई पानी की टंकी बनवाई जायेगी। सात साल के लम्बे अंतराल के बाद जब पानी की टंकी बनकर तैयार हुई तो उससे फिर एक बार पानी की सप्लाई मिल पाना अड़चन बन गया। जिसके लिये फिर लोगों ने हस्ताक्षर अभियान चलाये और आंदोलन किये और एक ज्ञापन मुख्यमंत्री को भी भेजा। जिसके तीन साल बाद पानी की सप्लाई शुरू हो पाई। पानी की सप्लाई पानी की लाइनों में आने के बाद लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। राजाजीपुरम के ए, बी, सी और डी ब्लाक में रहने वालों ने खुशियां मनाई और संस्थान की ओर से पानी की उपलब्धता के संकल्प के पूर्ण होने पर एक-दूसरे को मिठायी भी खिलायी गई। तीन साल से शो-पीस बनी खड़ी थी नई पानी की टंकीस्थानीय लोगों का कहना है कि तीन साल पहले बन चुकी पानी की टंकी शो-पीस बनी हुई थी। जल निगम और जलकल विभाग के बीच फंसने के कारण इससे सप्लाई नहीं दी जा रही थी। पानी लाइनों में भी लीकेज था। लोगों के विरोध के बाद अधिकारियों ने सप्लाई चालू की।घटनाक्रम-वर्ष 2005 में यहां पुरानी बनी टंकी की छत टूट गई थी-वर्ष 2007 में स्थानीय लोगों के प्रयास से नई टंकी बनवाने का बना था प्रस्ताव-वर्ष 2014 में बनकर तैयार हो गई नई टंकी-03 साल से पानी की सप्लाई नहीं कर पा रही थी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pani