DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जैन आचार्य ने जीवन की खुशहाली के लिये बताये छह सूत्र

आचार्य सुधेश का राजधानी में होगा चातुर्मासलखनऊ । निज संवाददातायहियागंज के 1008 आदि नाथ दिगम्बर जैन मन्दिर में अपने ससंघ के साथ विराजमान आचार्य 108 सुधेश सागर जी महाराज ने शुक्रवार को प्रवचन में कहा कि प्रत्येक श्रावक (भक्तों) को जीवन की खुशहाली के लिये छह कार्यो का पालन करना आवश्यक है। पहला देव पूजा, दूसरा गुरु सेवा, तीसरा स्वाध्याय (धार्मिक ग्रंथों का पठन पाठन), चौथा संयमपूर्वक रहना, पांचवा तप करना और छठा दान देना। आचार्य सुधेश सागर जी महाराज ने कहा कि यदि श्रावक इन छह बातों को बताये गये मार्गो का पालन नही करता तो समझों कि वह वास्तव में जैन नही है। मन्दिर के अध्यक्ष श्रवण कुमार जैन ने बताया कि तीन जून दिन शनिवार को प्रातः 8.00 बजे से 24 घंटे का भक्तामर पाठ आचार्य श्री के सानिध्य में होगा। चार जून को प्रातः 8.00 बजे समापन पर भक्तामर विधान का आयोजन होगा। इस अवसर पर श्रवण जैन, विनय कुमार जैन, समीर जैन, सन्तोष जैन कागजी, राकेश जैन, नीरज जैन, वैभव जैन, सुमित जैन, जम्बू जैन आदि लोग थे। सआदतगंज मन्दिर के मंत्री जम्बू जैन ने बताया कि आचार्य 108 सुधेश सागर जी महाराज का धर्म प्रभावना हेतु चातुर्मास कार्यक्रम सआदतगंज जैन मन्दिर में सात जुलाई से प्रारम्भ होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:dharmik