DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्य सचिव ने पीसीएस और आईएएस अफसरों से जताई नाराजगी

विशेष संवाददाता - राज्य मुख्यालय

मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने पीसीएस और आईएएस अफसरों से नाराजगी जताई है। मुख्य सचिव ने सभी आईएएस और पीसीएस अफसरों को भेजे निर्देशों में कहा है कि समय सारिणी पहले से निर्धारित होने के बावजूद अधिकतर पीसीएस अधिकारियों ने अपना स्वमूल्यांकन पेश नहीं किया है।

इसी तरह पीसीएस अधिकारियों के लिए उनकी प्रविष्टियां लिखने वाले प्रतिवेदक, समीक्षक और स्वीकर्ता प्राधिकारी आईएएस अधिकारी भी समय से प्रविष्टि रिपोर्ट नहीं दे रहे हैं जिससे उनकी वार्षिक गोपनीय प्रविष्टि रिपोर्ट पूरी नहीं हो पा रही हैं।

मुख्य सचिव ने राजस्व परिषद के अध्यक्ष, सभी अपर मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों, सचिवों, विभागाध्यक्षों, मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने अधीनस्थ पीसीएस अधिकारियों की प्रविष्टि रिपोर्ट व स्वमू्ल्यांकन रिपोर्ट समय से भिजवाएं। उन्होंने कहा कि समय सारिणी के अनुसार स्वमूल्यांकन रिपोर्ट 15 मई तक, जहां दो स्तर हैं वहां प्रतिवेदक अधिकारी का मंतव्य 31 अगस्त तक, समीक्षक-स्वीकर्ता प्राधिकारी का मंतव्य 30 सितंबर तक भिजवाने की व्यवस्था है। जहां तीन स्तर हैं वहां क्रमश: 31 जुलाई, 31 अगस्त और 30 सितंबर तक की समय सारिणी तय की गई है।

मंडल व जिला स्तरीय अधिकारियों की प्रविष्टि अंकित करने का काम विशेष अधिकार के तहत मंडलायुक्त और डीएम अपनी प्रविष्टियां 31 अगस्त तक उपलब्ध करा सकते हैं। यदि संबंधित अधिकारी अपना मंतव्य निर्धारित समय सारिणी के अनुसार नहीं भेजते तो उनके मंतव्य की प्रतीक्षा किए बिना अगले स्तर के प्राधिकारी संबंधित प्रपत्र तलब करके प्रविष्टि अंकित करेंगे। खास बात यह है कि दो साल की प्रविष्टियां एक ही स्वमूल्यांकन में मान्य नही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CS engry to IAS, PCS officers