DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बसपा में हार से मची है रार: भाजपा

भारतीय जनता पार्टी ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी को बसपा से निष्कासित किए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि बसपा में हार के कारण रार मची हुई है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने बताया कि हताश बसपा सुप्रीमो मायावती हार के कारणों को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है और हार का ठीकरा कभी ईवीएम पर फोड़ती है तो कभी नसीमुद्दीन पर संगीन आरोप लगाकर अपनी हताशा दूर करने का प्रयास कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि प्रदेश की जनता ने 2014 के लोकसभा चुनावों में और 2017 विधानसभा के चुनावों में साफ बता दिया कि अब यहां जातीय राजनीति की दाल नहीं गलेगी, लेकिन सपा-बसपा जैसे जाति आधारित दल इस सत्य को स्वीकार नहीं कर पा रहे है। बसपा सुप्रीमो को यह भी बताना चाहिए कि नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने चुनावों में किसके कहने पर धन उगाही की और उसका हिस्सा कहां-कहां पहुंचा।

श्री त्रिपाठी ने आरोप लगाया कि नसीमुद्दीन सिद्दीकी तो सिर्फ कैशियर की भूमिका अदा कर रहे थे, दलित वोटों की असली सौदागर तो स्वयं बसपा सुप्रीमो है। बसपा छोड़ने वाले कई नेताओं ने पहले भी ये आरोप लगाए है, आज पहली बार बसपा ने इसकी स्वीकारोक्ति की है। बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी तो मोहरे मात्र हैं। नोटबंदी के दौरान जिस तरह से बसपा सुप्रीमो की छटपटाहट दिखी थी वो नोटों के प्रति उनके प्रेम को दर्शा रही थी। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने प्रदेश की भाजपा सरकार की मंत्री श्रीमती स्वाति सिंह व उनकी पुत्री पर जब अभद्र टिप्पणी की थी यदि तभी बसपा ने निष्कासन की कार्रवाई की होती तो जनता बसपा का ये हश्र नहीं करती। एक तरफ बसपा सुप्रीमो आरोप लगाकर नसीमुद्दीन सिद्दीकी को निष्कासित कर रही हैं, वहीं आरोपों में घिरे अपने भाई आनंद कुमार को पार्टी में ऊँचे ओहदे से नवाज रही हैं। बसपा भ्रष्टाचार की पोषक है, इसलिए बसपा द्वारा भ्रष्टाचार का आरोप लगाना हास्यास्पद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bahujan Samaj Party is in trouble