DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दादाभाई नौरोजी ने भारतीयता की पहचान कराई

दादाभाई नौरोजी ने भारतीयता की पहचान कराई

दोस्तो, कुछ दिनों पहले हमने अपना 64वां स्वतंत्रता दिवस मनाया था। देश को स्वतंत्रता की राह दिखाने में बहुत-से लोगों का योगदान रहा है। इनमें दादाभाई नौरोजी भी एक थे।

दादाभाई नौरोजी का जन्म 4 सितंबर, 1825 को मुम्बई के एक गरीब पारसी परिवार में हुआ। जब दादाभाई 4 वर्ष के थे, तब उनके पिता का देहांत हो गया। उनकी मां ने निर्धनता में भी बेटे को उच्च शिक्षा दिलाई। उच्च शिक्षा प्राप्त करके दादाभाई लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में पढ़ाने लगे थे। लंदन में उनके घर पर वहां पढ़ने वाले भारतीय छात्र आते-जाते रहते थे। उनमें गांधीजी भी एक थे।

दादाभाई का स्वदेश प्रेम उन्हें भारत ले आया। उस समय यहां अंग्रेजों की ईस्ट इंडिया कंपनी का राज था। ब्रिटिश सरकार ने अपनी छवि यह बना रखी थी कि वह भारत को तरक्की के रास्ते पर ले जा रही है, लेकिन दादाभाई नौरोजी ने तथ्यों और आंकड़ों से सिद्ध किया कि अंग्रेजी राज में भारत का बहुत आर्थिक नुकसान हो रहा है। भारत दिन-पर-दिन निर्धन होता जा रहा है। उनकी बातों से लोगों को यह विश्वास हो गया कि भारत को अब स्वतंत्र हो जाना चाहिए। वे पहले भारतीय थे, जिन्होंने कहा कि भारत भारतवासियों का है। उनकी बातों से तिलक, गोखले और गांधीजी जैसे नेता भी प्रभावित हुए। 30 जून, 1917 को उनका निधन हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दादाभाई नौरोजी ने भारतीयता की पहचान कराई