DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनिका-पांकी सीमा पर मुठभेड़, कैंप ध्वस्त

मनिका और पांकी सीमा क्षेत्र के शैलदाग जंगल में सोमवार की रात से ही माओवादियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई। इसमें किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। सोमवार की रात करीब 11 बजे फायरिंग शुरू हुई, जो रात भर रुक-रुक कर चलती रही। पुलिस को सूचना मिली थी कि माओवादियों का दस्ता शैलदाग इलाके में किसी घटना को अंजाम देने के फिराक में है। इसी को लेकर जिला पुलिस बल, कोबरा, एसटीएफ और सीआरपीएफ ने संयुक्त रूप से अभियान चलाया।

इसी क्रम में शैलदाग जंगल में मुठभेड़ हुई।  सुबह उजाला होने के बाद नक्सली पसांगन के जंगल की ओर चले गये। वहां भी मंगलवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे पुलिस पर नक्सलियों ने फायरिंग की। पुलिस इस क्षेत्र में छापामारी अभियान चला रही है।

पलामू एसपी मयूर पटेल के अनुसार मुठभेड़ डोंकी, पगार, पसागम, सिरदाग और अवका इलाके में हुई है। इस दौरान नक्सलियों के अस्थाई कैंप को सुरक्षा बलों ने ध्वस्त कर दिया। वहां से लैंड माइंस, हथियार और नक्सल सामग्री बरामद हुई है। उन्होंने कहा कि माओवादियों के प्रतिरोध सप्ताह के मद्देनजर पूरे इलाके में अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है।

माओवादियों का सुरक्षित जोन है शैलदाग, पगार
शैलदाग और पगार का जंगल माओवादियों के लिए सुरक्षित जोन माना जाता है। यह क्षेत्र पांकी थाना की सीमा पर स्थित है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मनिका-पांकी सीमा पर मुठभेड़, कैंप ध्वस्त