DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्राइवेट बैंकों में झारखंड सरकार के खाते बंद

हिन्दुस्तान एक्सक्लूसिव

प्रदेश में प्राइवेट बैंकों को बड़ा झटका लगा है। झारखंड सरकार ने इन बैंकों से सरकारी विभागों और संस्थाओं के वित्तीय लेनदेन पर प्रतिबंध लगा दिया है। निजी बैंकों में सभी सरकारी खाते बंद किए जाएंगे। इन खातों में विभिन्न योजनाओं की पूरी जमा राशि निकाल ली जाएगी। 

वित्त सचिव अमित खरे ने सभी विभागों के सचिव, प्रमंडलीय आयुक्तों और उपायुक्तों को यह फरमान भेजा है। इसके तहत सरकारी विभाग या निकाय ही नहीं बल्कि स्वायत्त संस्थाओं के लिए भी प्राइवेट बैंकों से कारोबार का यह प्रतिबंध लागू होगा। सभी सरकारी विभागों और संस्थाओं को राष्ट्रीयकृत बैंकों में ही अपने खाते रखने होंगे। वित्त सचिव ने अपने निर्देश में भारतीय रिजर्व बैंक की पटना शाखा के एक पत्र का हवाला दिया है।

क्या होगा असर
प्रदेश के 13 प्राइवेट बैंकों में कुल मिलाकर 8,700 करोड़ से अधिक की सरकारी राशि जमा है। इसका एक अच्छा-खासा हिस्सा केंद्र या राज्य प्रायोजित योजनाओं के हैं। राज्य सरकार से कारोबार पर प्रतिबंध लगने से इन बैंकों को अपनी जमा राशि का अच्छा हिस्सा गंवाना होगा। ऐसे में इनकी विस्तार की योजनाओं पर असर पड़ सकता है। हालांकि, अधिकतर सरकारी विभाग पहले से ही प्राइवेट बैंकों से परहेज करते रहे हैं। इसके बावजूद योजनाओं और स्वायत्त संस्थाओं का पैसा इन बैंकों में रखा जाता रहा है।

यह फैसला भारतीय रिजर्व बैंक के पत्र के आलोक में लिया गया है। सभी विभागों और सरकारी संस्थाओं के प्राइवेट बैंक के साथ कारोबार पर रोक लगाई गई है।
- अमित खरे, वित्त सचिव

प्राइवेट बैंकों का विरोध
प्रदेश में कार्यरत एक प्राइवेट बैंक के जोनल हेड ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि रिजर्व बैंक ने राज्य सरकार को प्राइवेट बैंकों के साथ केवल एजेंसी बैंकिंग बंद करने को कहा है। इसका मतलब यह है कि जनता अगर टैक्स या विभागों को किए जाने वाले शुल्क का भुगतान किसी खास प्राइवेट बैंक के जरिए करती है, तो इस पर रोक लगाई जाए। लेकिन इस पत्र की गलत व्याख्या कर प्राइवेट बैंकों के साथ कारोबार और खाता खोलने पर ही रोक लगा दी गई है।

क्या है रिजर्व बैंक के पत्र में
भारतीय रिजर्व बैंक के बिहार-झारखंड क्षेत्र के निदेशक मनोज कुमार वर्मा के कार्यालय से झारखंड सरकार को पत्र भेजा गया है। इसमें भारत सरकार की ओर से की गई समीक्षा की जानकारी दी गई है। इसके आलोक में प्राइवेट बैंकों को सरकारी कारोबार का आवंटन नहीं करने और एजेंसी बैंकिंग समेत योजनाओं और दूसरे मदों के बैंक खाते बंद कर देने को कहा गया है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्राइवेट बैंकों में झारखंड सरकार के खाते बंद