DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जो जमीन मांगने आए, उसे बांध कर पीटो: बाबूलाल

सरकार से उम्मीद मत करो। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री से लेकर बड़े-बड़े अधिकारियों तक से गुहार की गई, लेकिन किसी ने विस्थापितों की नहीं सुनी। अब एक ही चारा बचा है कि जो भी जमीन पर आए ,उसे बांध कर पीटो। विस्थापितों को अपनी जमीन की रक्षा के लिए  आगे आना होगा। सरकार और अधिकारी बिचौलियों से मिले हुए हैं। स्थिति यह है कि केंद्र की योजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण किया गया था। इसलिए मामले पर प्रधानमंत्री को भी चिट्ठी लिखी, लेकिन जवाब तक नहीं मिला। उक्त बातें जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने शनिवार को धनबाद के दुहाटांड में विस्थापित महापंचायत में कही।

उन्होंने विस्थापितों से कहा कि कब्जा करने आए लोगों को बांध कर रखना। जरूरत पड़े तो मुझे बुला लेना। साथ जेल जाएंगे, लेकिन एक इंच जमीन कब्जा नहीं होने देंगे। भूमि अधिग्रहण के खिलाफ हाईकोर्ट में अर्जी देने वाले निपनियां के लोगों से उन्होंने कहा कि सीधे-साधे लोग हो, इसलिए कोर्ट चले गए। बहुत कुछ होने वाला नहीं है। जमीन बचाने के लिए मजबूती से आगे आओ। फिर देखते हैं, कौन क्या कर लेता है।

मरांडी ने कहा कि जमीन अधिग्रहण में अधियाचना, अधिसूचना जैसी प्रकियाएं होती हैं। निर्धारित अंतराल में सबकुछ होता है। लोगों की आपत्तियां सुनी जाती हैं। बिचौलिए और अधिकारियों ने कुछ ऐसा जाल बनाया कि साल भर के अंदर अधिग्रहित होने वाली काफी जमीन औने-पौने दाम पर खरीद ली। बिचौलियों की जमीन पर कई गुणा ज्यादा मुआवजा दिया गया तो गरीबों को जमीन पर कम मुआवजा मिला। वैसे मुआवजा की राशि भी गरीबों तक नहीं पहुंची और बिचौलिए हड़प लिए। सरकार क्या कर रही है। क्या देख रही है। सबकुछ नियमविरुद्ध हो रहा है इसके बाद भी कार्रवाई नहीं हो रही है। महापंचायत में जेवीएम नेताओं के अलावा दुहाटांड समेत आसपास के ग्रामीण जमा हुए ,जिनकी जमीन अधिग्रहीत की गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जो जमीन मांगने आए, उसे बांध कर पीटो: बाबूलाल