DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंडः हजारीबाग कोर्ट में फायरिंग, गैंगस्टर समेत तीन की मौत

झारखंडः हजारीबाग कोर्ट में फायरिंग, गैंगस्टर समेत तीन की मौत

हजारीबाग सिविल कोर्ट परिसर में एके-47 से फायरिंग कर अपराधियों ने गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव की हत्या कर दी। हमले में दो अन्य कैदी भी मारे गए जबकि चार लोग घायल हो गए। सुबह 11 बजे घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी आराम से भाग निकले। पुलिस जिले की सीमा सील कर हत्यारों की धर-पकड़ में जुटी है। रामगढ़ के पतरातू निवासी विकास तिवारी ने हत्या की जिम्मेवारी ली है। उसने मीडिया को फोन कर यह जानकारी दी।

जानकारी के मुताबिक, सुबह 11 बजे जब सिविल कोर्ट परिसर से कैदियों को पेशी के बाद वापस जेल ले जाया जा रहा था। गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव और दो लोग सीढ़ियों के पास खड़े थे, तभी एक बोलेरो की ओट से अपराधियों ने एके-47 से अंधाधुंध फायरिंग झोंक दिया। निशाना इतना सटीक था कि किसी को संभलने का मौका नहीं मिला। सुशील को सात गोलियां छाती और पेट में लगीं। दो अन्य मृतकों में पतरातू के गयासुद्दीन और कमाल खान शामिल हैं। 

हमलावरों की उम्र 22 से 25 वर्ष
प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि अपराधियों की उम्र 22-25 वर्ष के बीच थी। किसी के हाथ में एके -47 तो किसी के हाथ में पिस्टल और बम थे। ये सभी जिस बोलेरो पर सवार होकर आये थे, उसकी ओट लेकर 30 गज की दूरी से फायरिंग कर रहे थे।

भीड़ हटाने के लिए फेंका ग्रेनेड
जेपी केंद्रीय कारा में कई मामलों में आरोपी और कई में सजायाफ्ता सुशील श्रीवास्तव को मंगलवार को पेशी के लिए कोर्ट लाया गया था। जैसे ही वह जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय के यहां पेश होने के बाद कोर्ट से उतरकर दूसरे मामले में एक अन्य कोर्ट में जा रहा था कि इसी बीच सबसे पहले अपराधियों ने उसे टारगेट कर दो-तीन राउंड गोली चलाई। अपराधी कोर्ट परिसर में खड़ी बोलेरो जेएच 12बी 1694 में बैठकर सुशील श्रीवास्तव के आने का इंतजार कर रहे थे।

भीड़ को तितर-बितर करने के लिए शूटरों ने एक स्मोक ग्रेनेड फेंका। उसके फटते ही कोर्ट परिसर में अफरा-तफरी मच गई। जान बचाने के लिए लोग इधर-उधर भागने लगे। सुशील श्रीवास्तव भी अपनी जान बचाने के लिए जमीन पर लेट गया। लेकिन हमलावरों ने सटीक निशाना लगाकर लगभग 20-22 राउंड गोली चलाई।  हमलावरों की संख्या चार से पांच थी और सभी हथियारों से लैस थे। 

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार वारदात को अंजाम देने के बाद सभी अपराधी कोर्ट की चहारदीवारी फांदकर केबी महिला महाविद्यालय की ओर भाग निकले। चहारदीवारी के बाहर दो पल्सर बाइक पर अपराधियों के साथी बाइक स्टार्ट कर खड़े थे। भागते समय अपराधियों ने हवाई फायरिंग भी की और एके-47 फेंक दिया।

इस दौरान पुलिसर्किमयों ने व्यवहार न्यायालय परिसर से जवाबी फायरिंग की। अपराधियों को लक्ष्य करके किये जानेवाले फायरिंग में एक अपराधी को भी गोली लगने की सूचना है। वहीं पुलिस की गोली से सड़क के दूसरी ओर निशांत फोटो स्टेट दुकान में फोटो कॉपी कराने आये रामगढ़ डीसी ऑफिस के लिपिक जोलेन सोरेन और अपराधियों की गोली से हवलदार देवेन्द्र पासवान घायल हो गए। लिपिक को हाथ में जबकि हवलदार को पैर में गोली लगी है। वहीं भगदड़ में गिरकर अधिवक्ता अश्विनी कुमार घायल हो गए हैं। पुलिस और अपराधियों के बीच चार मिनट तक फायरिंग होती रही।

घटना के बाद पहुंची पुलिस ने कोर्ट परिसर से एक स्लेटी रंग की बोलेरो, एक स्कूटी, बोलेरो में रखे कुछ कागजात और एके 47 बरामद किया है। घटना के बाद मौके पर डीआइजी उपेन्द्र कुमार, हजारीबाग जिला के पुलिस कप्तान अखिलेश कुमार झा, डीएसपी सतीश चन्द्र झा, दिनेश गुप्ता और कार्यपालक दंडाधिकारी अनंत कुमार के साथ फोरेंसिक एक्सपर्ट और डॉग स्क्वाड को भी बुलाया गया।

विकास तिवारी ने ली हत्या की जिम्मेवारी ली
पतरातू निवासी विकास तिवारी ने सुशील श्रीवास्तव की हत्या की जिम्मेवारी ली है। उसने बताया कि किशोर पांडेय की हत्या सुशील श्रीवास्तव ने करवायी थी। किशोर के अंतिम संस्कार में उसने सुशील श्रीवास्तव को मारने की शपथ ली थी। मंगलवार को उसने हजारीबाग कोर्ट कैम्पस में सुशील श्रीवास्तव को गोली मारकर शपथ पूरा किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंडः हजारीबाग कोर्ट में फायरिंग, गैंगस्टर समेत तीन की मौत