DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अखिलेश सिंह पर भी कोर्ट में हुआ था हमला

पेशी के दौरान कोर्ट परिसर में सरगना और माफिया पर हमले की घटना नई नहीं है। हजारीबाग कोर्ट में मंगलवार को कोयला माफिया सुशील श्रीवास्तव की हत्या इन्हीं में से एक है। ऐसी ही घटना जमशेदपुर व्यवहार न्यायालय में 14 मई 2014 को भी हुई थी, जब जेल में बंद अखिलेश सिंह को पेशी के लिए लाया गया था। हालांकि, अखिलेश उस हमले में बाल-बाल बच गया।

यह हुआ था उस दिन
अखिलेश की तीन आपराधिक मामलों में कोर्ट में पेशी थी। सुबह 11:20 बजे अखिलेश को एडीजे-टू दीपकनाथ तिवारी की अदालत में लाया गया। सुनवाई के बाद कोर्ट से निकलते ही सीतारामडेरा की रमना खलखो ने उसे रोका और बातचीत करने लगी। इसी दौरान सरबजीत सिंह ने उस पर फायरिंग कर दी, लेकिन गोली नहीं चली। सरबजीत सीढ़ी से नीचे भागने लगा। उसका साथी हर्रंवदर भी थैला फेंककर कोर्ट रूम में घुस गया। इसी दौरान अखिलेश के समर्थकों ने उसे पकड़ा और उसे जमकर पीटा।

पिस्तौल लहराते हुए भाग रहा था सरबजीत
सरबजीत पिस्तौल लहराते हुए भाग रहा था। इसी दौरान एक युवक ने उस पर ईंट फेंकी, जो उसके सिर में लगी थी। इससे सरबजीत गिर गया। इसके बाद अखिलेश समर्थक उस पर टूट पड़े। लात-घूंसों से उसकी पिटाई शुरू कर दी। पीट-पीट कर उसे अधमरा कर दिया। इस दौरान सरबजीत और हर्रंवदर के कई और साथी वहां से फरार हो गए।

प्रशासन की मिलीभगत का आरोप लगाया था अखिलेश ने
इस मामले में अखिलेश सिंह ने आरोप लगाया था कि प्रशासन की मिलीभगत से यह घटना घटी। अखिलेश सिंह ने जेल से चिट्ठी लिखकर उस पर हमला कराने वालों का नाम उपेन्द्र सिंह और गुरुमुख सिंह मुक्खे बताया था, लेकिन उस चिट्ठी पर कोई कारवाई नहीं की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अखिलेश सिंह पर भी कोर्ट में हुआ था हमला