power plant is not establish in dumka cesc company demanded back money - महुआगढ़ी कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द होने के कारण कंपनी का निर्णय DA Image
20 नबम्बर, 2019|5:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महुआगढ़ी कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द होने के कारण कंपनी का निर्णय

महुआगढ़ी कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द हो जाने के कारण कोलकाता की पावर कंपनी मेसेर्स सीईएससी लिमिटेड ने अब झारखंड के दुमका जिले में पावर प्‍लांट नहीं लगाने का निर्णय लिया है। मेसेर्स सीईएससी लिमिटेड आरपीजी ग्रुप की कंपनी है, जो दुमका जिला के रामगढ़ ब्लॉक के डांडो मौजा में 300-300 मेगावाट का 2 यूनिट थर्मल पावर प्लांट लगाने वाली थी। इसके लिए 187.56 एकड़ जमीन का भू-अर्जन हो चुका था। रैयतों को मुआवजा भुगतान के लिए कंपनी ने अलग-अलग किश्तों में करीब 14.77 करोड़ रुपए जमा किया था।

पावर प्लांट नहीं लगाने के निर्णय के बाद कंपनी ने रैयतों को मुआवजा  भुगतान नहीं करने और इसके लिए जमा राशि वापस करने का अनुरोध सरकार से किया था। कंपनी के अनुरोध पर दुमका के डीसी ने जिला भूअर्जन पदाधिकारी को निर्देश दिया है कि सीईएससी लिमिटेड द्वारा जमा कराए गए 14.77 करोड़ रुपए का 20 प्रतिशत कटौती कर 11,81,72,051 रुपए कंपनी को वापस कर दें।

यह पैसा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में जमा है। राशि वापस लेने के लिए मेसेर्स सीईएससी लिमिटेड,कोलकाता के थर्मल प्रोजेक्ट के उपाध्यक्ष गौतम बनर्जी को पत्र भेजा गया है। कंपनी के थर्मल प्रोजेक्ट के उपाध्यक्ष गौतम बनर्जी ने कंपनी द्वारा दुमका में पावर प्लांट नहीं लगाने के निर्णय की सूचना देते हुए जमा की गई राशि वापसी के लिए सरकार से अनुरोध किया था।    
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:power plant is not establish in dumka cesc company demanded back money