DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज से बंद होगी हिन्दुस्तान केबल्स फैक्ट्री

आज से बंद होगी हिन्दुस्तान केबल्स फैक्ट्री

रुपनारायणपुर स्थित हिन्दुस्तान केबल्स नगरी आज से खत्म हो जाएगी, क्योंकि एचसीएल को जीवन दान देने के अभी तक के सभी प्रयास पूर्ण रूप से विफल रहे हैं। एक समय चित्तरंजन रेल नगरी की शानो-शौकत को मात देने वाली एचसीएल को क्लोजर नोटिस मिल जाने से रूपनारायणपुर को भारी क्षति होगी।

आज वसंत पंचमी के दिन से पश्चिम बंगाल की यह ऐतिहासिक केबुल्स फैक्ट्री अधिकारिक तौर पर बंद हो जाएगी। मंगलवार को अंतिम दिन कारखाने के सैकड़ों श्रमिकों ने कारखाना आकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। श्रमिकों के मुख पर हताशा और निराशा के भाव पूरी तरह से झलक रहे थे। हताश श्रमिकों के मुख पर बस एक ही सवाल थे कि कल से हम कहां जाएंगे। कर्मचारियों का कहना है कि 11 माह से न तो कंपनी पूरी तरह सैलरी दे रही है और न ही पीएफ, ग्रैच्युटी या रिटायरमेंट के पैसे। विदाउट सर्कुलर के सर्विस पीरियड 60 साल की जगह 58 साल में ही रिटायरमेंट दे रही है। 58- 60 साल वाले मामले में पैसा लेने के लिए श्रमिकों को कोर्ट जाना पड़ रहा है।

कोर्ट में डिग्री होने के बाद भी सभी श्रमिकों पर वह कोर्ट का निर्णय लागू नहीं किया जा रहा है। कंपनी ने क्लोजर के समय वर्कर्स को झासें में डालकर वीआरएस का फार्म भरवाया गया। 31 अक्टूबर 2016 को अंतिम तौर पर वीआरएस का फार्म जमा तो ले लिया गया लेकिन श्रमिकों को कितना, कब और किस तरह से पैसे दिए जाएंगे, यह साफ नहीं किया गया है। यह सब कुछ अंधकार में रखा गया है।

वहीं श्रमिकों को ग्रैच्युटी पाना भी आसान नहीं है। इसके लिए उन्हें पहले क्वार्टर सरेंडर कराना होगा। हालांकि हिन्दुस्तान केबुल्स ने आवासों में रहने के लिए श्रमिकों चार महीने की मोहलत दी है। इस सबंध में श्रमिक संगठन इंटक के सहायक सचिव उमेश झा ने बताया कि बाराबनी के विधायक बिधान उपाध्याय के हस्तक्षेप के बाद एचसीएल प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि सोमवार को भी एचसीएल प्रशासन श्रमिकों के राशि का एक लेखा जोखा दिया था जो फाइनल नहीं था। साथ ही श्रमिकों से हस्ताक्षर लेकर फार्म जमा कराया जा रहा था। जिसका विरोध हमने किया, क्योंकि जो लेखा जोखा प्रशासन की ओर से प्रस्तुत किया गया था। वहीं इंटक के चरणजीत सिंह गोराया ने बताया कि चार महीने तक आवासों में रहने की मोहलत दी गई है, इतने दिनों में बकाया का भुगतान हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindustan Cables factory to be closed today