अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षकों से नहीं लिया जाएगा गैर शैक्षिक कार्य

शिक्षा विभाग की सचिव आराधना पटनायक ने सभी जिलों के उपायुक्तों को शिक्षकों को गैर शैक्षिक कार्य से मुक्त रखने का निर्देश जारी किया है। आराधना पटनायक ने पत्र में कहा है कि गैर शैक्षिक कार्य जैसे बीएलओ ड्यूटी व अन्य के कारण स्कूलों का पठन पाठन प्रभावित हो रहा है।

शिक्षा सचिव ने कहा कि शिक्षकों का मूल कार्य पढ़ाना है। इन्हे सरकारी कार्य दिए जाने से स्कूलों में पठन पाठन प्रभावित होते रहता है। आगामी सत्र से स्कूलों में बेहतर शैक्षणिक व्यवस्था के लिए शिक्षकों को अन्य कार्य नहीं दिया जाए।

21 सौ स्कूलों में 6 हजार शिक्षक

पूर्वी सिंहभूम जिले में प्राथमिक, मध्य और हाई स्कूलों को मिलाकर कुल 6 हजार शिक्षक कार्यरत है। इन्हे शिक्षकों से मतदाता सूची ठीक कराने, जनगणना करने, आर्थिक गणना से लेकर पशु गणना जैसे काम लिया जाता रहता है।

सरकारी स्कूलो में शिक्षकों की संख्या है कम

जिले के अधिकतर स्कूलों में शिक्षकों की संख्या कम है। कई स्कूल में तो एकल शिक्षक है। वहीं कुछेक स्कूलों में दो शिक्षकों के बूते तीन सौ विद्यार्थी भी पढ़ाई कर रहे है। सबसे ज्यादा परेशानी ऐसे परिस्थिति में शिक्षक अपने स्कूल में रहकर शिक्षण का कार्य करे,इसके लिए विभाग कवायद कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Non-educational work will not be taken from teachers