अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों के निशाने पर कोल्हान के 17 स्टेशन

कोल्हान में पड़ने वाले चक्रधरपुर व खड़गपुर मंडल के 17 रेलवे स्टेशन नक्सलियों के निशाने पर हैं। इनमें मनोहरपुर, सोनुआ, उरमा, पौसेता, बांसपानी, नोवामुंडी, चांडिल, चाकुलिया, कोकपाड़ा, सरडीहा, गिद्धनी, झारग्राम, मनीकुई, कांटाडीह, नीमडीह, भालुलता, बामंडा, बानो व अन्य स्टेशन शामिल हैं। दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन के 1300 किलोमीटर इलाके (झारखंड के जमशेदपुर, रांची, बोकारो जिला)के 87 स्टेशनों पर शुरू से ही नक्सली खतरा है। खुफिया एजेंसी ने कई बार चेतावनी देकर हमले की आशंका जताई है।

यहां हो चुके हैं नक्सली हादसे

सरडीहा में रेल लाइन पर विस्फोट के कारण ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस के 222 यात्रियों की मौत

चक्रधरपुर मंडन में टाटा-बिलासपुर पैसेंजर में पौसेता के पास इंजन के आगे विस्फोट

हावड़ा-मुंबई गीतांजलि एक्सप्रेस को मनोहरपुर के पास हो चुका है उड़ाने का प्रयास

भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस और धनबाद-झारग्राम पैसेंजर को कोकपाड़ा स्टेशन के पास छह घंटे बनाया था बंधक

सोनुआ, कांटाडीह, नीमडीह, भालुलता, बामंडा व कोकपाड़ा स्टेशन पर हो चुका है हमला

झारग्राम, कांटाडीह व भालुलता स्टेशन पर नक्सलियों ने विस्फोट कर दहशत फैलाई थी

जवानों से लूटे जा चुके हैं हथियार

झारग्राम-गिदनी स्टेशन के बीच ट्रेन एस्कॉट जवानों पर हमला कर नक्सलियों ने सात वर्ष पहले हथियार लूट लिए थे। चांडिल-पुरुलिया स्टेशन के बीच भी दो जवानों से हथियार लूटे जा चुके हैं।

रेल सुरक्षा की स्थिति

चक्रधरपुर व रांची मंडल समेत टाटानगर रेल पुलिस मुख्यालय के किसी थाने में पर्याप्त जवान नहीं है। दक्षिण-पूर्व जोन में आरपीएफ को 4856 जवानों की जरूरत है जबकि 3400 जवान ही उपलब्ध हैं। टाटानगर रेल पुलिस को 850 जवानों की जरूरत है, लेकिन उपलब्ध सिर्फ 400 हैं। लंबी दूरी की कुल 49 जोड़ी ट्रेनों में से केवल 26 ट्रेनों में ही एस्कॉट की सुविधा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 17 stations on target of Naxalites in Kolhlan