DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी स्वीडन पहुंचे

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी स्वीडन पहुंचे

दो देशों की पांच दिनों की यात्रा के पहले चरण में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी रविवार को स्वीडन पहुंच गए हैं। भारत के किसी राष्ट्राध्यक्ष की स्वीडन और बेलारूस की यह पहली यात्रा है। इस यात्रा के दौरान अनेक महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है।

राजकुमारी विक्टोरिया ने आरलैंड हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद राष्ट्रपति मुखर्जी के उनकी अगवानी की। बाद में रायल म्यूज में उनका स्वागत सम्राट कार्ल सोलहवें गुस्ताफ और महारानी सिल्विया ने किया जहां से उन्हें घोड़ों की बग्घी में रायल पैलेस ले जाया गया। वहां पर राष्ट्रपति का पारंपरिक स्वागत किया गया।

इससे पहले, मुखर्जी को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, वित्त मंत्री अरुण जेटली और तीनों सेना के अध्यक्षों की ओर से समारोहपूर्ण विदाई दी गई।

स्वीडन की राजधानी स्टाकहोम पहुंचने के बाद राष्ट्रपति वहां के महाराजा और महारानी से मुलाकात करने के साथ साथ प्रधानमंत्री स्टीफन लिवेन, विपक्षी नेता अन्ना कोर्नबर्ग बेट्रे और साथ ही स्वीडिश संसद के अध्यक्ष से मुलाकात करेंगे। स्वीडन की तीन दिन की अपनी यात्रा के दौरान राष्ट्रपति यूरोप के प्रसिद्ध एवं प्राचीनतम विश्वविद्यालय को भी देखने जाएंगे, जिसकी स्थापना 1471 में हुई है। राष्ट्रपति भारतीय समुदाय के सदस्यों और होटल उद्योग एवं आईटी सेक्टर में काम करने वाले भारतीयों से भी बात करेंगे। वहां करीब 18 हजार भारतीय प्रवासी एवं भारतीय मूल के लोग रहते हैं।

मुखर्जी की स्वीडन की यात्रा उस विवाद की पृष्ठभूमि में हो रही है जो एक स्वीडिश अखबार से की गई उनकी कथित टिप्पणी को लेकर उत्पन्न हुई थी। लेकिन विदेश मंत्रालय ने उन अटकलों को पूरी तरह से खारिज किया था कि इस मुद्दे का मुखर्जी की इस यात्रा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी स्वीडन पहुंचे