DA Image
8 अप्रैल, 2020|7:42|IST

अगली स्टोरी

दुनिया का हर 20वां प्रवासी भारत से, कमाई के मामले में इंडियन नं 1

दुनिया का हर 20वां प्रवासी भारत से, कमाई के मामले में इंडियन नं 1

भारत से प्रवास का पुराना इतिहास रहा है। एक शताब्दी पहले यहां से बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीय अफ्रीका और कैरेबियाई द्वीपों पर गए, जहां उनकी बड़ी जनसंख्या तैयार हो गई। पिछले कुछ दशक में भी प्रवासी भारतीयों की संख्या में खासा इजाफा हुआ है।

लेकिन अब उनकी पसंदीदा जगहों में अमेरिका, खाड़ी देश और यूरोप शामिल हो गए हैं। प्यू रिसर्च सेंटर ने वर्ष 2015 तक के आंकड़ों के आधार पर जारी अपने सर्वे में प्रवासी भारतीयों के बारे में कई तथ्य उजागर किए हैं।

हर 20वां प्रवासी भारत में पैदा हुआ
सर्वे में बताया गया कि विश्व के कुल प्रवासियों में हर 20वां प्रवासी भारत में पैदा हुआ है। इसका मतलब यहां से सबसे ज्यादा प्रवासी दुनिया के अन्य देशों में जाते हैं। अमेरिका ने 1990 में प्रवासियों की संख्या पर नजर रखना शुरू किया। पिछले 25 सालों में यहां प्रवासी भारतीयों की संख्या पहले की अपेक्षा दोगुनी हो चुकी है।

आधे प्रवासी भारतीय सिर्फ तीन देशों में
प्रवासी भारतीयों की कुल संख्या में से आधे लोग सिर्फ तीन देशों, संयुक्त अरब अमीरात, पाकिस्तान और अमेरिका में रहते हैं। इसमें से सबसे ज्यादा प्रवासी अरब में हैं। सर्वे में बताया गया कि अमेरिका में हर 10 में से 9 भारतीय प्रवासी का जन्म भारत में हुआ है। ये वहां के सबसे अमीर और शिक्षित प्रवासी भी माने जाते हैं।

भारत में भी प्रवासी ज्यादा
दुनिया के अन्य देशों से भी बड़ी संख्या में प्रवासी भारत में आकर निवासी करते हैं। इस मामले में भारत का विश्व में 12वां स्थान है। यहां सबसे ज्यादा प्रवासी पड़ोसी देश बांग्लादेश से आते हैं, जिनकी संख्या 32 लाख से ज्यादा है। इसके बाद पाकिस्तान से भी करीब 11 लाख लोग और नेपाल से 5.40 लाख लोग भारत में बतौर प्रवासी रहते हैं। इसमें श्रीलंका के लोगों की संख्या 1.60 लाख है।

प्रवासियों से मोटी कमाई
विश्व बैंक के अनुसार, दुनिया के अन्य देशों की अपेक्षा भारत सबसे ज्यादा कमाई अपने प्रवासियों के माध्यम से करता है। 2015 तक यह भारत के सकल घरेलू उत्पाद का करीब 3% रहा है। इसमें खाड़ी देशों के बाद सबसे ज्यादा पैसे अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा से आए। भारत वर्ष 2008 से चीन को पछाड़कर इस मामले में शीर्ष पर है।

धार्मिक रूप से पलायन ज्यादा
प्यू ने 2010 के आंकड़ों के अनुसार बताया कि भारत में धार्मिक रूप से कम जनसंख्या वाले समुदाय के प्रवासियों की संख्या ज्यादा है। मसलन, देश के 14% मुस्लिम जनसंख्या के सापेक्ष प्रवासियों की संख्या 37% है। इसी तरह सिर्फ 3% जनसंख्या वाले इसाइयों के प्रवासियों की संख्या 19% है। इसके उलट देश के 80% जनसंख्या वाले हिंदुओं के प्रवासियों की संख्या महज 45% है।

प्रवासियों की बड़ी संख्या 
1.56 करोड़ से ज्यादा प्रवासियों का जन्म भारत में हुआ
35 लाख प्रवासी भारतीय संयुक्त अरब अमीरात में रहते हैं
20 लाख प्रवासी भारतीयों की संख्या है पाकिस्तान में 
20 लाख से ज्यादा प्रवासी भारतीय हैं अमेरिका में
52 लाख प्रवासी अन्य देशों से आकर भारत में रहते हैं।
  
प्रवासियों का पैसा
देश         प्रवासियों से कमाई (रुपये में)
भारत           46 खरब
चीन            42 खरब 
फिलीपींस    18.68 खरब
मैक्सिको     17 खरब
फ्रांस           15 खरब
पाकिस्तान    12 खरब
बांग्लादेश    10 खरब
 (विश्व बैंक के अनुसार)

ये भी पढ़ें: 2050 में भारत बन जाएगा दुनिया में सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाला देश

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:india is a top source for worlds migrants