DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईएस के शिकार 600 लोगों के शव जमीन खोदकर निकाले गए

आईएस के शिकार 600 लोगों के शव जमीन खोदकर निकाले गए

इस्लामिक स्टेट (आईएस) के लड़ाकों द्वारा मारे गए छह सौ लोगों के शव उत्तरी इराक में जमीन खोदकर निकाले गए हैं।  इराक के मानवाधिकार मंत्री मोहम्मद अल-बयाती ने कहा कि शवों का आंकड़ा और बढ़ सकता है और यह संभवत: दोगुना हो सकता है। ये तमाम शव वायुसेना के उन जवानों के हैं, जो देश के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन के गृह शहर तिकरित शहर के आतंकियों के कब्जे में जाने के बाद मार डाले गए। एक साल पहले, 12 जून 2014 को आईएस ने इराक के उत्तरी क्षेत्र में स्थित इस शहर पर कब्जा जमा लिया था।

रिपोर्टों के अनुसार, तब आईएस ने तिकरित के करीब स्थित एक सैन्य अड्डे पर भी कब्जा कर लिया था और वायुसेना के करीब करीब चार हजार निहत्थे जवानों को बंदी बना लिया था। इनमें से 1000 से 1700 के करीब जवानों को मारकर विभिन्न स्थानों पर गाड़ दिया गया था। इनमें से अधिकतर शिया समुदाय के थे। तिकरित पर सेना ने दोबारा अप्रैल में कब्जा किया।

बड़ी तादाद में आईएस में जा रहे मध्य एशियाई युवा
मध्य एशियाई देशों से बड़ी संख्या में युवा आईएस में भर्ती हो रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय आपदा समूह की उपनिदेशक जेनिफर लियोनार्ड ने कहा, साल 2010 से लगभग 500 उज्बेक और 300 किर्गीज लड़ाके आईएस में शामिल हुए हैं। कुछ युवा आतंकी संगठन में इसलिए शामिल हो गए हैं क्योंकि वे मानते हैं कि उनके देश में उनका शोषण हुआ है। मध्य एशिया से बड़ी संख्या में युवाओं के आईएस में शामिल होने का कारण यह है कि यहां की सरकारों के बीच आईएस के खात्मे के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव है। अमेरिका के राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक केंद्र के अनुसार, कम से कम 20 हजार विदेशी युवा आईएस में शामिल हुए हैं।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ISIS deadliest atrocity, 600 bodies confirmed found following worst massacre by jihadists