DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिरी दिन विभागों के खाते में पहुंचे 40 करोड़

प्रदेश सरकार ने कुबेर का खजाना खोल दिया है। वित्तीय वर्ष के आखिरी दौर में ज्यादातर विभागों को करोडों का बजट आवंटित कर दिया गया। इस करोडों की धनराशि को आनन-फानन में खर्च करने के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों ने पसीना छोंड दिया। आनन-फानन में बिल तैयार कर किसी तरह से धनराशि को खर्च किया गया। ताकि उसे समर्पण न करना पड़े। करीब 40 करोड की धनराशि विभागों के खातों में भेजी गई। सर्वाधिक पेयजल योजनाओं के नाम पर जल संस्थान और जलनिगम को 36 करोड़ की धनराशि कोषागार ने उनके खातों में हस्तांतरित की।

वित्तीय वर्ष के आखिरी दिन तक बिल बाउचर प्रस्तुत करने के निर्देश जारी किए थे। जिससे विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों को राहत मिल गई। हालांकि शासन स्तर से वित्तीय वर्ष 2016-17 के आखिरी दौर में ही करोड़ों का बजट आवंटित किए जाने से उनको खर्च करने में परेशान होना पड़ा। लाभार्थीपरक योजनाओं में भी लाभार्थियों का चयन होने के बाद बजट की कमी के चलते धन नहीं मिल पाया था। जबकि विभागों की ओर से पहले ही बजट की मांग की गई थी। अब मार्च माह के आखिरी सप्ताह में शासन ने विभिन्न योजनाओं में बजट का आवंटन किया। इसके साथ ही निर्देश दिए गए थे कि आवंटित धनराशि को वित्तीय वर्ष में ही खर्च किया जाना है। अवशेष धनराशि समर्पण करने के निर्देश दिए गए थे। इधर जिलाधिकारी ने सख्त निर्देश जारी किया था कि किसी भी मद का पैसा कोई भी अधिकारी बिना उनकी अनुमति के समर्पण नहीं करेगा। विकास के लिए आवंटित धनराशि खर्च की जाएगी। धनराशि को खर्च करने के लिए संबंधित विभागों के कर्मचारियों ने आनन-फानन में बिल बाउचर तैयार किए। कोषागार से पहले ही टोकन ले लिया गया था। इसके बाद बिल बाउचर तैयार कर प्रस्तुत किए। वित्तीय वर्ष के आखिरी दिन करीब 40 करोड़ की धनराशि विभिन्न विभागों के खातो में कोषागार से हस्तांतरित की गई। इनमें सबसे अधिक जल संस्थान 15़26 करोड़ एवं जलनिगम को 21 करोड़ दिए गए। इस धनराशि को दोनों विभागों के अधिकारी पेयजल योजनाओं में खर्च करेंगे। जबकि लोहिया ग्रामीण आवास योजना के तहत करीब दो करोड़ की धनराशि भी भेजी गई है। इसी तरह वित्तीय वर्ष के आखिरी तीन दिन में राजस्व विभाग ने सूखा राहत के तहत आवंटित धनराशि में से करीब साढे चार करोड किसानों के खातों में भेजा है। अभी करीब चार करोड की धनराशि उपलब्ध है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आखिरी दिन विभागों के खाते में पहुंचे 40 करोड़