DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हल्द्वानी को जाम से निजात दिलाएगी फोरलेन रिंग रोड

सैलानियों को हल्द्वानी शहर की भीड़-भीड़ वाली सड़कों से बचाने के लिए 40 किमी लंबी रिंग रोड बनाई जाएगी। इस प्रोजेक्ट पर करीब 500 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके तहत गौला नदी पर करीब 500 मीटर लंबा पुल भी बनाया जाएगा। बीते सोमवार मुख्यमंत्री हरीश रावत ने देहरादून में इस प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है। हालांकि इसके सर्वे के लिए लोनिवि पहले टेंडर करा चुका है। इसमें 1.40 करोड़ की बोली लगी थी। इसे अब निरस्त कर दिया गया है।

हल्द्वानी में अंतरराष्ट्रीय स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, अंतरराष्ट्रीय जू बनने के बाद सैलानियों की संख्या में और इजाफा होने की उम्मीद है। मगर शहर की संकरी सड़कों पर बढ़ रही भीड़ धीरे-धीरे जाम की वजह बनती जा रही हैं। इसके अलावा पर्यटन सीजन में बरेली, लखनऊ, दिल्ली से नैनीताल और पहाड़ी जिलों को जाने वाले वाहनों के चलते भी अक्सर जाम लगता है। इससे निजात के लिए लोनिवि ने शहर के बाहर एक रिंग रोड का खाका तैयार किया है। करीब 40 किमी लंबी रिंग रोड पर करीब आधा किमी लंबा पुल भी गौला पर बनेगा। इससे 20 से अधिक गांवों को फायदा मिलेगा।

एक नेशनल हाईवे और स्टेट हाईवे को जोड़ेगी रिंग रोड

हल्द्वानी शहर के बाहर बनने वाली रिंग रोड एक राष्ट्रीय राजमार्ग और दो राज्य मार्गों को आपस में जोड़ेगी। लोनिवि के अधिशासी अभियंता रणजीत रावत ने बताया कि रामनगर-हल्द्वानी-सितारगंज-बिजटी स्टेट हाईवे पर रिंग रोड लामाचौड़ से शुरू होगी। यहां से रोड गदरपुर-दिनेशपुर-हल्द्वानी स्टेट हाईवे पर फुटकुआं से होते नेशनल हाईवे 87 के मोटाहल्दू/हल्दूचौड़ से होते ग्रेटर हल्द्वानी गौलापार में दोबारा रामनगर-हल्द्वानी-सितारगंज-बिजटी स्टेट हाईवे के बसंतपुर/दानीबंगर में मिलेगी। यहां से चोरगलिया रोड, काठगोदाम रोड रहेगी। दूसरी ओर जमरानी बांध की कॉलोनी के पास से लामाचौड़ और काठगोदाम के बीच सड़क जुड़ेगी।

रिंग रोड का फायदा

- रामनगर, कालाढूंगी से बरेली, सितारगंज, चम्पावत, टनकपुर आदि जाने वाले वाहन लामाचौड़ से रिंग रोड के जरिए सीधे बरेली रोड या चोरगलिया रोड निकल जाएंगे।

- नैनीताल, अल्मोड़ा, मुक्तेश्वर समेत पहाड़ की ओर दिल्ली, रुद्रपुर, रामपुर से आने वाले वाहन फुटकुआं से रिंग रोड के जरिए लामाचौड़ से सीधे काठगोदाम होते चले जाएंगे।

- अल्मोड़ा, नैनीताल, बागेश्वर से आने वाले वाहन काठगोदाम से रिंग रोड से होते दिल्ली, बरेली, देहरादून, लखनऊ के लिए बिना जाम में फंसे निकल जाएंगे।

-चोरगलिया से आने वाले वाहन बिना हल्द्वानी आए रिंग रोड से होकर दिल्ली, देहरादून, नैनीताल जा सकेंगे।

-हल्द्वानी शहर की तंग सड़कों पर बाहर से आने वाले वाहनों का दबाव कम होगा। जाम की स्थिति कम होगी।

-गौलापार में अंतरराज्यीय बस अड्डा बनने के बाद दिल्ली, देहरादून, मुरादाबाद से आने वाले वाहन रिंग रोड के जरिए सीधे बस अड्डे पहुंच सकेंगे।

रिंग रोड फोर लेन बनना है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने मंजूरी दे दी है। योजना पर करीब 500 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान है। पूर्व में किए गए टेंडर निरस्त हो गए हैं। पहले चरण में फिजिबिलिटी सर्वे के लिए टेंडर किए जाएंगे। इसके बाद कंसलटेंसी की नियुक्ति होगी। -बीसी बिनवाल, मुख्य अभियंता लोनिवि

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Will form the four-lane ring road around Haldwani