DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चढ़ाई पर फिसला रेल का इंजन, दूसरे इंजन से खींचा

बारिश के चलते गीली हुई पटरियों पर लखनऊ-काठगोदाम एक्सप्रेस चढ़ाई पार नहीं कर सकी। पहिये फिसलने के कारण ट्रेन लालकुआं-हल्द्वानी के बीच खड़ी हो गई। दूसरा इंजन भेजकर ट्रेन को काठगोदाम पहुंचाया गया। इससे ट्रेन करीब डेढ़ घंटे देरी से स्टेशन पहुंची।

लखनऊ और काठगोदाम के बीच हफ्ते में तीन दिन (सोमवार, गुरुवार और शुक्रवार) को लखनऊ-काठगोदाम एक्सप्रेस (ट्रेन संख्या 15043) चलती है। गुरुवार को लखनऊ से आ रही ट्रेन सुबह करीब 7.10 बजे लालकुआं रेलवे स्टेशन से हल्द्वानी के लिए निकली, लेकिन मोतीनगर रेलवे क्रॉसिंग के पास ट्रेन ठिठक गई। दरअसल लालकुआं से हल्द्वानी के बीच चढ़ाई भी लगती है और बारिश में पटरी पर फिसलन भी हो जाती है। इस कारण ट्रेन के इंजन के पहिये फिसल गए और लोकोपायलट को ट्रेन रोकनी पड़ी। ट्रेन के बीच ट्रैक पर खड़ा होने की सूचना करीब सवा सात बजे गेटमैन ज्योतिप्रकाश यादव ने हल्द्वानी के स्टेशन मास्टर को दी। यहां से काठगोदाम को घटना से सूचित किया गया। सूचना मिलने के बाद काठगोदाम से एक इंजन भेजा गया। इस दौरान करीब एक घंटे तक ट्रेन ट्रैक पर ही खड़ी रही। सुबह साढ़े आठ बजे करीब काठगोदाम से पहुंचे इंजन की मदद से ट्रेन को खींचा गया। इसके बाद 1 घंटा 23 मिनट की देरी से ट्रेन काठगोदाम रेलवे स्टेशन पहुंची।

काठगोदाम रेलवे स्टेशन अधीक्षक चयन रॉय ने बताया कि लालकुआं और हल्द्वानी के बीच चढ़ाई है और बारिश में अक्सर व्हील स्लिप की घटना होती है। गुरुवार सुबह भी ऐसा हुआ था, इसलिए काठगोदाम से दूसरा इंजन मदद के लिए भेजा गया था। इस कारण ट्रेन भी देरी से पहुंची।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rail engine slipe on the climb, drawn from another engine