DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरीदाबाद दोबारा

फ्लैग : अनुभव मित्तल के खिलाफ गुरुग्राम के एक निवेशक ने धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज कराई

आनलाइन महाठगी

नोएडा। विनीत कुमार

छह लाख निवेशकों से मिली अरबों की धनराशि को अनुभव मित्तल 20 फर्जी कंपनियों के जरिए खपा रहा था। एसटीएफ की जांच में इन कंपनियों के पंजीकरण की जानकारी मिली है, लेकिन यह सभी कंपनियां पंजीकृत पते पर काम नहीं करती पाई गई हैं। दूसरी ओर, गुरुग्राम के एक निवेशक ने अनुभव मित्तल और आयुषि अग्रवाल के खिलाफ फेस-3 थाने में 4.60 लाख रुपये की धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है।

एसटीएफ को अरबों रुपये के आनलाइन महाठगी के मास्टरमाइंड अनुभव मित्तल के खाते, कंपनी के बैंक खाते तथा दस्तावेजों की जांच में पता चला है कि उसने दिल्ली-एनसीआर के पते पर दर्ज 20 ऐसी कंपनियों से लेनदेन किया, जिनका धरातल पर कोई अस्तित्व नहीं है। इन कंपनियों की जब मौके पर जाकर जांच की गई तो सभी कंपनियां काम करती हुई नहीं पाई गईं। एसटीएफ अधिकारियों का कहना है कि इन कंपनियों को निवेशकों से मिली बड़ी धनराशि को ठिकाने लगाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था। यह शैल(फर्जी) कंपनियां सिर्फ रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में पंजीकृत हैं। इनमें कोई कारोबार नहीं होता है।

20 फर्जी कंपनियों के जरिए अनुभव मित्तल निवेशकों से मिली धनराशि को खपा रहा था। जांच में यह सभी कंपनियां अपने पंजीकृत पते ना चलती हुई पाई गईं और ना ही उनका कोई कारोबार पता चला।

रामकुमार, आईजी एसटीएफ

लालच में फंसा

गुरुग्राम के न्यू पालम विहार निवासी सुरेंद्र सहरावत मोबाइल की दुकान चलाते हैं। सुरेंद्र सहरावत ने फेस-3 थाने में शनिवार को अनुभव मित्तल, आयुषि मित्तल तथा अशोक विहार गुरुग्राम निवासी चंद्रशेखर के खिलाफ 4.60 लाख रुपये की धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है। सुरेंद्र का कहना है कि बीते साल अक्तूबर में परिचित चंद्रशेखर ने उन्हें घर बैठे कमाई का लालच देते हुए नोएडा की एब्लेज कंपनी से जुड़ने का प्रस्ताव दिया था। वह उन्हें एक बार नोएडा सेक्टर-63 स्थित एब्लेज कंपनी कार्यालय भी लेकर आया था। उन्होंने 09 नवंबर को गुरुग्राम में क्रेडिट कार्ड के जरिए 57500 रुपये का भुगतान कर दिया। चंद्रशेखर की बातों में आकर उन्होंने पुत्र अरुण कुमार, पत्नी रोशनी सहरावत, रिश्तेदार शम्मी सहरावत तथा सतीश कुमार के नाम से कुल आठ आईडी बनवाई। इनमें दो आईडी पत्नी, दो पुत्र के नाम तथा दो आईडी खुद उनके नाम पर थी। जनवरी में कंपनी ने भुगतान करना बंद कर दिया। जब उन्होंने नोएडा आकर कंपनी से रुपये वापस मांगे तो उन्हें भगा दिया गया।

नाइजीरिया से एकसाथ 50 शिकायतें आईं

एसटीएफ को मेल आईडी पर अफ्रीकी देश नाइजीरिया से 50 शिकायतें मिली हैं। यह शिकायतें अप्रवासी भारतीय और नाइजीरिया के लोगों की हैं। अनुभव की कंपनी के सीईओ श्रीधर प्रसाद ने पूर्व में नाइजीरिया में काम किया है। वहीं से उसने अपने संपर्क के जरिए नाइजीरिया के लोगों को जोड़ा। इन शिकायतों के आधार पर एसटीएफ नोएडा में पीड़ितों से एफआईआर कराने के लिए कह सकती है। एसटीएफ का कहना है कि अफ्रीकी देश कैमरुन से भी शिकायत मिली है।

अनुभव ने माना कोई राजस्व नहीं था

एसटीएफ से पूछताछ में अनुभव ने स्वीकार किया है कि उसको किसी कंपनी से काम नहीं मिलता था। ऐसे में कंपनी को राजस्व की प्राप्ति कारोबार से नहीं हो रही थी। निवेशकों से मिले रुपये के जरिए ही सारे खर्च पूरे होते थे। सोशल मीडिया ट्रेड के लिए उसके पास किसी कंपनी का अनुबंध होता और वह उसके सहारे अपनी कंपनी के सदस्यों को आगे काम देता तब उसके राजस्व को माना जाता।

परिजनों की 500 से अधिक आईडी

एसटीएफ को अनुभव से पूछताछ में पता चला है कि अनुभव ने अपने परिजनों तथा करीबियों के नाम पर 500 से अधिक आईडी बनाई हुई थीं। इन आईडी पर वह सामान्य निवेशकों के मुकाबले ज्यादा धनराशि खातों में ट्रांसफर कर रहा था। जांच में यह बात भी सामने आई है कि इनमें से अधिकांश आईडी फर्जी पहचान पत्र लगाकर खोली गई थीं।

सभी केंद्रों के ध्यानाथ----वेब वर्क पर ठगी का आरोप

नोएडा। संवाददाता

सेक्टर-2 में वेब वर्क ट्रेड लिंक कंपनी पर भी अनुभव मित्तल की एब्लेज इंफो सॉल्यूशन की तरह ऑनलाइन ठगी करने का आरोप लगा है। नोएडा पुलिस सोमवार को कंपनी निदेशक अनुराग गर्ग से पूछताछ करेगी। गाजियाबाद के एक निवेशक ने नोएडा पुलिस को शिकायत देकर कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

डी-57 सेक्टर 2 में वेब वर्क ट्रेंड लिंक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है। यह कंपनी लोगों को एब्लेज की तरह ही आनलाइन लिंक भेजकर उन्हें क्लिक करने का काम देती है। गाजियाबाद के रहने वाले डॉ. एके जैन ने भी कंपनी में साढ़े तीन लाख रुपये निवेश किया था। उन्हें 2 लाख रुपये मिल चुके हैं। डॉ. एके जैन का कहना है कि सोशल ट्रेड के नाम पर एब्लेज इंफ्रो सॉल्यूशन की ठगी का मामला सामने आने के बाद साफ है कि वेब वर्क के नाम पर वेब वर्क ट्रेंड लिंक कंपनी भी लोगों से ठगी कर रही है, जिसकी शिकायत साइबर सेल में उन्होंने की है। रविवार को बैंकिंग व्यवस्था में बदलाव का हवाला देकर 20 अप्रैल तक कंपनी बंद रहने की सूचना मिलने के बाद से वह परेशान हो गए हैं।

एएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर का कहना है कि वेब वर्क के नाम पर सेक्टर 2 की कंपनी में भी लाखों निवेशकों ने करोड़ों का निवेश किया है। हालांकि, निवेशकों की संख्या और निवेश कितने का है, इस बारे में कुछ भी स्पष्ट तौर पर जांच के बाद कहा जा सकता है।

नवाजुद्दीन सिद्दीकी को भी जोड़ा

कंपनी निदेशक ने अपनी दूसरी कंपनी के लिए अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी को ब्रांड एंबेसडर बनाया है। कंपनी कार्यालय के बाहर नवाज का बड़ा सा पोस्टर भी लगाया हुआ है।

वेब वर्क ट्रेड लिंक कंपनी में परिवार के तीन लोगों ने 3.45 लाख रुपये निवेश किए थे। अब कंपनी बंद हो गई है। किसी अधिकारी से संपर्क नहीं हो पा रहा है। - प्रवीन कुमार

टीवी में विज्ञापन देखकर कंपनी के प्रति विश्वास बढ़ा था। कंपनी में पहले खुद जुड़ा इसके बाद अपने घरवालों को भी जोड़ा। कंपनी बंद है। - समीर

57,500 रुपये कंपनी में आईडी बनवाई थी। कंपनी की ओर से लिंक भेजे जा रहे थे। हाल ही में पत्नी और बहन को जोड़ा था। अब तो लगता है कि रुपये डूब गए। -आशुतोष

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:्नेे्न