DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अचानक एक व्यवस्था का फेल हो जाना

तब मैं पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी स्थित सेंट्रल स्कूल में पांचवीं कक्षा का छात्र था। एक दिन हमारे स्कूल में मैगी बांटी जा रही थी। हर बच्चे को दो-दो मैगी मुफ्त दी जा रही थी और बताया जा रहा था कि यह सिर्फ दो मिनट में बन जाती है। घर पहुंचकर मैंने मां को अपनी मैगी दी, कच्चा- पक्का कुछ समझाया गया, मां ने भी कुछ कच्चा-पक्का बना दिया और मैंने खा भी लिया। तब पहली बार अपनी समझ में आया कि जीवन में दाल-भात और आलू-गोभी के अलावा भी कुछ होता है। तब से लेकर आज तक मैगी हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा बनी हुई है। मम्मी ने खाना नहीं बनाया, तो मैगी; दोस्तों की पार्टी करनी है, तो मैगी; घर का खाना पसंद नहीं आया, तो मैगी; हॉस्टल में खाने को कुछ न मिला, तो मैगी; हॉस्टल में कुछ मिल गया, तब भी मैगी; रात को नींद न आए, तो मैगी; अगर नींद टूट जाए, तब भी मैगी। राजस्थान के वीराने में मैगी, लद्दाख के बर्फीले तूफान में मैगी।

जो मैगी 33-34 साल से जिंदगी का हिस्सा बनी हुई है, वह अचानक इतनी बुरी कैसे हो गई है? सवाल यहां मैगी का नहीं है और न ही मैगी के जांच में फेल होने का है। सवाल यहां पूरे सिस्टम के फेल हो जाने का है और यह बात 33 साल बाद क्यों सबको समझ में आ रही है? मैगी इतनी बुरी है, यह बात इतने साल में क्यों नहीं समझ में आई? आखिर क्यों नहीं पता चला कि हमारे बच्चे इतने साल से जहर खा रहे हैं? एक पूरी पीढ़ी जहर खाकर बड़ी हो गई और किसी को पता भी नहीं पड़ा? 33 साल बाद ही यह सब क्यों और हर राज्य में अचानक क्यों? चलो अच्छा है कि अब पता चला, तो ऐक्शन लिया जा रहा है, लेकिन इतने  साल तक जो पता नहीं चला, उसके लिए कब और किसके खिलाफ ऐक्शन लिया जाएगा?

मान लिया कि यह हमारे बच्चों के लिए घातक है। इसलिए उस पर हमेशा के लिए पाबंदी लगा देनी चाहिए। लेकिन हम उस विषैले पानी को बैन क्यों नहीं करते, जो हमारे बच्चे रोज पीते हैं? उस दूध को क्यों नहीं बैन करते, जिसमें यूरिया मिला हुआ है? उस सब्जी को क्यों नहीं बैन करते, जिसे बड़ा बनाने या फिर हरा बनाए रखने के लिए केमिकल डाला गया है? उस हवा का क्या किया जाएगा, जिसमें सांस लेते हुए हमारे बच्चों को अस्थमा हो रहा है? पिछले 68 साल में हम अपने बच्चों को साफ हवा और साफ पानी तो दे नहीं पाए और और अब सिर्फ एक चीज को बैन करके मान रहे हैं कि समस्या समाप्त।

मैगी ने दो मिनट के नाम पर दस मिनट का इंतजार करना सिखाया है। मैगी ने मिल बांटकर खाने का संस्कार दिखाया है। इसे बनाने वाली कंपनी से मेरा कोई रिश्ता नहीं, लेकिन मैं मैगी का 33 साल पुराना दीवाना हूं। इसलिए मुझे मेरी मैगी हर हाल में वापस चाहिए। और इससे ही नहीं, बाकी सारी चीजों के जहर को भी खत्म कीजिए।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अचानक एक व्यवस्था का फेल हो जाना