DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किरण राव की नजर में ‘बुरी’ थी मुख्यधारा की फिल्में

किरण राव की नजर में ‘बुरी’ थी मुख्यधारा की फिल्में

फिल्मकार किरण राव पहले मुख्यधारा की फिल्मों को ‘बुरी’ फिल्मों का पयार्य मानती थीं।

किरण ने 17वें मुंबई एकेडमी ऑफ मूविंग इमेज (एमएएमआई) फिल्म फेस्टिवल के अनावरण के मौके पर बुधवार को संवाददाता से कहा कि यह एक इत्तेफाक है कि मैं फिल्म स्कूल से उस वक्त लौटी, जिस वक्त एमएएमआई शुरू हुआ। क्लासिक फिल्म स्कूल से होने के कारण मुझमें पूर्वाग्रह था कि मुख्यधारा की फिल्में बुरी फिल्मों का पर्याय हैं।

किरण ने कहा, ‘‘मैं सोचती थी कि अपनी फिल्में यहां नहीं बना सकती। मैं 90 के दशक के अंत की मुख्यधारा की फिल्मों को बहुत बुरा मानती थी।’’ एमएमएमआई फिल्म फेस्टिवल 29 अक्टूबर से पांच नवंबर तक अयोजित होगा।

किरण ने कहा कि आमतौर पर फिल्मोत्सव ‘दिखावटी’ होते हैं, लेकिन उन्होंने साफ किया कि एमएएमआई फिल्मोत्सव व्यावसायिक एवं कलात्मक फिल्मों का मिश्रण होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किरण राव की नजर में ‘बुरी’ थी मुख्यधारा की फिल्में