DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

BIRTHDAY स्पेशल: शुरू से ही प्रतिभा के धनी थे सुनील दत्त

BIRTHDAY स्पेशल: शुरू से ही प्रतिभा के धनी थे सुनील दत्त

सुनील दत्त का आज ही के दिन 6 जून 1929 झेलम पाकिस्तान में जन्म हुआ था। , मृत्यु: 25 मई 2005), सुनील दत्त का असली नाम बलराज दत्त था। सुनील दत्त शुरू से ही प्रतिभा के धनी थे वो भारतीय फिल्मों के बतौर विख्यात अभिनेता, निर्माता व निर्देशक जाने जाते थे। उन्होंने कुछ पंजाबी फिल्मों में भी अभिनय किया। photo1

सुनील दत्त ने अपने छह दशकों के करियर में 50 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। सुनील दत्त को इस दुनिया से गये हुए 10 वर्ष हो गये हैं लेकिन उनकी यादें और फिल्में आज भी लोगों के जहन में ताजा हैं। उनकी फिल्मों में आज भी ताजगी है। सुजाता, मदर इंडिया, रेशमा और शेरा, मिलन, नागिन, जानी दुश्मन, पड़ोसन, जैसी फिल्मों से वो हमेशा याद आते रहेंगे। सुनील दत्त जब फिल्मों में आये तो वो दौर राजकपूर दिलीप कुमार देव आनन्द जैसे चोटी के स्टारों के इर्द गिर्द था, लेकिन सुनील दत्त ने धीरे-धीरे अपनी कौशलता से और अपने अभिनय से सबको चौंका दिया और बहुत जल्द ही सबके दिलों पर राज करने लगे और तो और अपने मधुर व्यवहार की वजह से सबके दिलों पर छा गए। और अपने समकालीन अभिनेताओं के दिलों पर भी चढ़ गये।

इसके अतिरिक्त उन्होंने भारतीय राजनीति में भी सार्थक भूमिका निभायी। मनमोहन सिंह की सरकार में 2004 से 2005 तक वे खेल एवं युवा मामलों के कैबिनेट मंत्री रहे। उनके पुत्र संजय दत्त भी फिल्म अभिनेता हैं। photo2

उन्होंने 1984 में कांग्रेस पार्टी के टिकट पर मुम्बई उत्तर पश्चिम लोक सभा सीट से चुनाव जीता और सांसद बने। वो यहां से लगातार पांच बार चुने जाते रहे। उनकी मृत्यु के बाद उनकी बेटी प्रिया दत्त ने अपने पिता से विरासत में मिली वह सीट जीत ली। भारत सरकार ने 1968 में उन्हें पद्म श्री सम्मान प्रदान किया। इसके अतिरिक्त वे बम्बई के शेरिफ़ भी चुने गये।

मदर इंडिया से शुरू हुई थी नरगिस-सुनील दत्त की लव स्टोरी
photo3
नरगिस और सुनील दत्त के प्यार की कहानी किसी बॉलीवुड स्टोरी से कम नहीं है। फिल्म की शूटिंग के दौरान सेट पर आग लग जाने के बाद सुनील दत्त ने नरगिस की जान बचायी और इस वक्त दोनों ने एक दूसरे को अपना दिल दे दिया। नरगिस और सुनील दत्त के तीन बच्चे हुए एक पुत्र संजय दत्त जो कि खुद बॉलीवुड में सुपर स्टार बन चुके थे, दो लड़कियां प्रिया दत्त जिन्होंने पापा की सीट से चुनाव लड़ा और सांसद बनीं, दूसरी लडक़ी नम्रता दत्त जोकि फैशन डिजायनर हैं और राजेन्द्र कुमार के बेटे कुमार गौरव की पत्नि हैं। नरगिस ने फिल्मों के अलावा सामाजिक कार्य में भी अपनी एक अलग पहचान बनायी उन्होंने मानसिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए भी काम किया। नरगिस का कैंसर की बिमारी के कारण निधन हो गया।

मुश्किलों से भी गुजरे photo4
नरगिस को जब कैंसर हुआ तो वो बहुत मुश्किल दौर से गुजरे नरगिस के इलाज के लिए वो अमेरिका में चक्कर लगाते रहते थे, नरगिस के इलाज के लिए बहुत परेशान रहते थे, लेकिन आखिर बहुत कोशिशों के बावजूद वो नरगिस को बचा नहीं पाए। और नरगिस उन्हें छोडक़र इस दुनिया से चली गईं। उसके बाद संजय दत्त भी बुरी लतों में पड़ गये और वो ड्रग्स के आदि हो गए। जिसके चक्करत में उनका सम्पर्क अंडरवल्र्ड के लोगों से हो गया और उनका नाम अंडरवल्र्ड के लोगों से भी जुड गया और बॉम्बे बम ब्लास्ट में भी उनका नाम आय गया उनके  पास उसी दौरान एक रॉयफल बरामद होने से उनको गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें 18 महीने जेल में बिताने पड़े जिसके लिए सुनील दत्त ने उन्हें बाहर लाने के लिए दिन रात एक कर दिया इसी तरह उनके ड्रग्स की लत के लिए भी सुनील दत्त ने बहुत जतन किए। आखिर संघर्ष करते करते एक दिन 25 मई 2005 को वो इस दुनिया से विदा हो गए। और हमारे बीच अपनी अनमोल यादों को छोड़ गये जो हमें आज भी बहुत प्यार और मोहब्बत का एहसास कराती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BIRTHDAY स्पेशल: शुरू से ही प्रतिभा के धनी थे सुनील दत्त