DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुर और अभिनय की मलिका सुरैया

सुर और अभिनय की मलिका सुरैया

अदाओं में नजाकत, गायकी में नफासत की मलिका सुरैया जमाल शेख ने अपने हुस्न और हुनर से हिंदी सिनेमा के इतिहास में एक नई इबारत लिखी। वो पास रहें या दूर रहें, नुक्ताचीं है गमे दिल, और दिल ए नादां तुझे हुआ क्या है जैसे गीत सुनकर आज भी जहन में सुरैया की तस्वीर उभर आती है।
   
15 जून 1929 को गुजरावाला, पंजाब (वर्तमान पाकिस्तान) में जन्मी सुरैया अपने माता पिता की इकलौती संतान थीं। नाजों से पली सुरैया ने हालांकि संगीत की शिक्षा नहीं ली थी लेकिन आगे चलकर उनकी पहचान एक बेहतरीन अदाकारा के साथ एक अच्छी गायिका के रूप में भी बनी।
   
सुरैया ने अपने अभिनय और गायकी से हर कदम पर खुद को साबित किया है। सुरैया के फिल्मी कैरियर की शुरुआत बड़े रोचक तरीके से हुई। गुजरे जमाने के मशहूर खलनायक जहूर सुरैया के चाचा थे और उनकी वजह से 1937 में उन्हें फिल्म उसने क्या सोचा में पहली बार बाल कलाकार के रूप में भूमिका मिली।    

1941 में स्कूल की छुट्टियों के दौरान वह मोहन स्टूडियो में फिल्म ताजमहल की शूटिंग देखने गईं तो डायरेक्टर नानूभाई वकील की नजर उनपर पड़ी और उन्होंने सुरैया को एक ही नजर में मुमताज महल के बचपन के रोल के लिए चुन लिया। इसी तरह संगीतकार नौशाद ने भी जब पहली बार ऑल इंडिया रेडियो पर सुरैया की आवाज सुनी और उन्हें फिल्म शारदा में गवाया।
   
1947 में देश की आजादी के बाद नूरजहां और खुर्शीद बानो ने पाकिस्तान की नागरिकता ले ली, लेकिन सुरैया यहीं रहीं। एक वक्त था, जब रोमांटिक हीरो देवआनंद सुरैया के दीवाने हुआ करते थे। लेकिन अंतत: यह जोड़ी वास्तविक जीवन में जोड़ी नहीं पाई।

वजह थी सुरैया की दादी, जिन्हें देव साहब पसंद नहीं थे। मगर सुरैया ने भी अपने जीवन में देव साहब की जगह किसी और को नहीं आने दिया। ताउम्र उन्होंने शादी नहीं की और मुंबई के मरीनलाइन में स्थित अपने फ्लैट में अकेले ही जिंदगी जीती रहीं। आखिरकार 31 जनवरी 2004 को सुरैया दुनिया को अलविदा कह गईं।
    
देवआनंद के साथ उनकी फिल्में जीत (1949) और दो सितारे (1951) खास रहीं। ये फिल्में इसलिए भी यादगार रहीं क्योंकि फिल्म जीत के सेट पर ही देवआनंद ने सुरैया से अपने प्रेम का इजहार किया था, और दो सितारे इस जोड़ी की आखिरी फिल्म थी।
    
खुद देवआनंद ने अपनी आत्मकथा रोमांसिंग विद लाइफ में सुरैया के साथ अपने रिश्ते की बात कबूली है। वह लिखते हैं कि सुरैया की आंखें बहुत खूबसूरत थीं। वह बड़ी गायिका भी थीं। हां, मैंने उनसे प्यार किया था। इसे मैं अपने जीवन का पहला मासूम प्यार कहना चाहूंगा।

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भी सुरैया की महानता के बारे में कहा था कि उन्होंने मिर्जा गालिब की शायरी को आवाज देकर उनकी आत्मा को अमर बना दिया।
   
ऑल इंडिया रेडियो में कार्यक्रम अधिशासी विनिता ठाकुर कहती हैं कि संगीत का महत्व तो हमारे जीवन में हर पल रहेगा लेकिन सार्थक और मधुर गीतों की अगर बात आएगी तो सुरैया का नाम जरूर आएगा। उनका गाया गीत वो पास रहें या दूर रहें उनपर काफी सटीक बैठता है। उनकी अदाएं और भाव भंगिमाएं उनकी गायकी की सबसे बड़ी विशेषता थीं। अपने चेहरे के भाव से ही वे सभी भावों को प्रदर्शित कर देती थीं। आज भी उनके कद्रदानों की कमी नहीं है।
   
कलकत्ता विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के प्रोफेसर और सहित्यकार जगदीश्वर चतुर्वेदी कहते हैं, सुरैया ने हिंदी सिनेमा में गीत की गरिमा को नई उंचाईयों पर पहुंचाया। स्त्री मन, स्त्री की अनुभूति की यथार्थ अभिव्यंजना उनके यहां ही मिलती है।
   
सुरैया भले ही आज हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनका अभिनय, उनका संगीत हमेशा हम सबको उनकी याद दिलाता रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुर और अभिनय की मलिका सुरैया