DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर विवाद में ईवीएम

क्या वास्तव में ईवीएम ऐसी बला है, जो मनचाहे नतीजे निकाल सकती है या यह राजनीतिक दलों की सिर्फ हार की कुंठा है? दरअसल, अपनी पसंद के उम्मीदवार को वोट दिया या नहीं, ईवीएम से स्पष्ट नहीं होता है, वीवीपीएटी यानी वोट का प्रिंट आउट निकालने जैसी तकनीकी लागू करने को कोर्ट ने कहा है, लेकिन यह सर्वसुलभ नहीं हो पाई है और इसमें भी कुछ तकनीकी पेचोखम पाए गए हैं। कुल मिलाकर, ईवीएम प्रक्रिया पर भरोसे की कमी के आरोप लगे हैं। मजे की बात है यह कि एक ओर भारत में इसका जोर-शोर से इस्तेमाल होने लगा है, उधर दुनिया के अधिकांश हिस्सों में ईवीएम का प्रयोग वर्जित है, जैसे जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जापान, सिंगापुर, नीदरलैंड, आयरलैंड, डेनमार्क, और आंशिक रूप से अमेरिका में भी। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिशीगन में कंप्यूटर विज्ञान के प्रोफेसर एलेक्स हाल्डरमैन के मुताबिक, भारतीय मशीनों के हार्डवेयर को आसानी से बदला जा सकता है। मशीन के जिस प्रोग्राम में वोटिंग डाटा स्टोर रहता है, वे असुरक्षित हैं और उन्हें बाहरी सोर्स से मैनीपुलेट किया जा सकता है। कंट्रोल यूनिट के डिसप्ले सेक्शन में कुख्यात ट्रोजन वायरस के साथ एक चिप लगा दी जाए, तो ईवीएम को हैक करना आसान हो जाता है। ये चिप मनमाफिक नतीजे उद्घाटित कर सकती है।
 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:evms political parties political parties