DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंत अवेद्यनाथ ब्रह्मलीन, रविवार को दी जाएगी समाधि

महंत अवेद्यनाथ ब्रह्मलीन, रविवार को दी जाएगी समाधि

गोरक्षपीठाधीश्वर एवं श्रीरामजन्मभूमि आन्दोलन के प्रमुख नेता महंत अवेद्यनाथ शुक्रवार रात करीब नौ बजे यहां गोरखनाथ मंदिर के गोरक्षनाथ अस्पताल में ब्रह्मलीन हो गए। वह दो माह से गुड़गांव के मेदान्ता अस्पताल में भर्ती थे। तबीयत में सुधार न होने पर उन्हें एयर एम्बुलेन्स से शाम को यहां लाया गया और अस्पताल के आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया था।

महंत अवेद्यनाथ को मंदिर परिसर में ही रविवार को समाधि दी जाएगी। शनिवार सुबह आठ बजे से उनके अंतिम दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है।photo1

महंत अवेद्यनाथ के ब्रह्मलीन होने की सूचना शहर में तेजी से फैल गई। इसके बाद भक्तों, शुभचिन्तकों और समर्थकों का मन्दिर में आना शुरू हो गया। समाचार लिखते समय तक हजारों लोग मन्दिर में पहुंच चुके थे। कई लोग रो रहे थे। हर कोई अपने बड़े महंत के बारे में चर्चा कर रहा था। शनिवार को उनका पार्थिव शरीर मंदिर परिसर में भक्तों के अंतिम दर्शनों को रखा जाएगा और रविवार दोपहर उन्हें समाधि दी जाएगी।

95 वर्षीय महंत अवेद्यनाथ की तबीयत 13 जुलाई को अचानक ज्यादा बिगड़ गई। तब उन्हें मेदान्ता में भर्ती कराया गया। वहां डॉक्टरों के हर संभव प्रयास के बावजूद स्वास्थ्य में अपेक्षित सुधार नहीं हो रहा था। वयोवृद्ध होने के कारण शरीर के विभिन्न अंग धीरे-धीरे काफी कमजोर हो गए थे। समझा जाता है कि सुधार की कोई उम्मीद न देख कर ही डॉक्टरों ने उन्हें गोरखपुर ले जाने और सेवा करने की सलाह दी। इसी के बाद उनके उत्तराधिकारी एवं सांसद योगी आदित्यनाथ ने तुरन्त एयर एम्बुलेन्स की व्यवस्था की और गोरखपुर लेकर आ गए। साथ में मेदांता अस्पताल के डॉ. लोकेन्द्र गुप्त भी थे। यहां महंत अवेद्यनाथ को अस्पताल के आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया था। वहां मेदान्ता जैसे ही उपचार की विशेष व्यवस्था की गई थी मगर उन्हें बचाया न जा सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महंत अवेद्यनाथ ब्रह्मलीन, रविवार को दी जाएगी समाधि