DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फैलिन ने छोड़े बर्बादी के निशान, 90 लाख लोग प्रभावित

फैलिन ने छोड़े बर्बादी के निशान, 90 लाख लोग प्रभावित

भीषण चक्रवाती तूफान फैलिन अनुमान के अनुसार ही शनिवार रात ओडिशा के तट पर पहुंचा और तबाही मचाई, लेकिन पर्याप्त एहतियात बरतने के कारण जनहानि नहीं हुई। तूफान से करीब 90 लाख लोग प्रभावित हुए हैं, 2.34 लाख घर क्षतिग्रस्त हो गए, जबकि 2400 करोड़ रुपये की धान की फसल बर्बाद हो गई।

इस तूफान को गत 14 वर्षों में आया सबसे भीषण तूफान माना जा रहा है, लेकिन इससे 1999 में आए तूफान के मुकाबले तबाही काफी कम रही। इससे गंजाम जिला सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। चक्रवाती तूफान कल रात गोपालपुर तट से गुजरा तो हवा की गति 220 किलोमीटर प्रति घंटे थी। इससे संचार सम्पर्क बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं।

तूफान बाद में कमजोर होकर एक कम दबाव में तब्दील हो गया। ओड़िशा में प्रशासन ने चक्रवाती तूफान आने से पहले ही करीब नौ लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंच दिया गया था जो कि हाल के इतिहास में सबसे बड़ी संख्या है। इन लोगों को राहत शिविरों और स्कूल जैसी सार्वजनिक इमारतों में ठहराया गया। यह कवायद इसलिए की गई, ताकि वर्ष 1999 के विनाशकारी चक्रवात जैसी स्थिति की पुनरावृत्ति रोकी जा सके जिसमें 9885 लोग मारे गए थे।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकार (एनडीएमए) के उपाध्यक्ष एम शशिधर रेड्डी ने कहा कि जिस तरह लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया उसे लेकर हम कुल मिलाकर बहुत संतुष्ट हैं। गोपालपुर में करीब 90 से 95 प्रतिशत लोगों को निकाल लिया गया था। तूफान सबसे पहले गोपालपुर ही पहुंचा था। तूफान से बुरी तरह से प्रभावित हुए आधारभूत ढांचे को बहाल करने तथा राहत एवं पुनर्वास कार्य के लिए रक्षा और अद्धसैनिक कर्मियों को लगाया गया है।

कल रात चक्रवाती तूफान आने से पहले ओड़िशा में पेड़ गिरने से सात व्यक्तियों की मौत हो गई, जबकि आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में एक घर धराशायी होने से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। भारतीय मौसम विभाग ने राजधानी दिल्ली में कहा कि फैलिन चक्रवाती तूफान कमजोर हो गया है तथा हवा की गति 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे है। यह वर्तमान समय में ओड़िशा के झाड़सूगुड़ा के नजदीक है।

तूफान से पहले ऐसी आशंका थी कि इससे भारी जनहानि होगी। अमेरिकी नौसेना ने भी पूर्वानुमान जताया था कि तूफान के दौरान 300 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवाएं चलेंगी, लेकिन भारतीय मौसम विभाग ने आज कहा कि उसका पूर्वानुमान सही साबित हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फैलिन ने छोड़े बर्बादी के निशान, 90 लाख लोग प्रभावित