DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिका की GPS प्रणाली का विकल्प होगा नौवहन उपग्रह

अमेरिका की GPS प्रणाली का विकल्प होगा नौवहन उपग्रह

अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक नया दौर शुरू करते हुए भारत ने पीएसएलवी के जरिये नौवहन को समर्पित अपना पहला उपग्रह सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित किया है, जो देश को अमेरिका की जीपीएस प्रणाली का एक विकल्प मुहैया कराएगा।
   
इस उपलब्धि के साथ ही भारत चुनिंदा देशों में शामिल हो गया। बीती रात ठीक 11 बजकर 41 मिनट पर कुल 44 मीटर लंबे पीएसएलवी-सी22 ने यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से आईआरएनएसएस-1ए उपग्रह के साथ उड़ान भरी और आसमान के स्याह कैनवस पर गहरे सुनहरे रंग की ज्वाला का चित्र सा बन गया।
   
प्रक्षेपण के करीब 20 मिनट बाद यानी आधी रात से कुछ समय पश्चात रॉकेट ने आईआरएनएसएस-1ए को उसकी कक्षा में स्थापित कर दिया। तकनीकी तौर पर मंगलवार को कक्षा में स्थापित हुआ आईआरएनएसएस-1ए उन सात उपग्रहों की श्रृंखला में से पहला उपग्रह है, जिन्हें भारतीय क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (इंडियन रीजनल नैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम-आईआरएनएसएस) के लिए छोड़ा जाना है।

आईआरएनएसएस स्पेस सेगमेंट का उद्देश्य देश तथा देश की सीमा से 1500 किलोमीटर की दूरी तक के हिस्से में इसके उपयोगकर्ता को सटीक स्थिति की सूचना देना है। यह इसका प्राथमिक सेवा क्षेत्र है।
   
आईआरएनएसएस-1ए के सफल प्रक्षेपण से उत्साहित इसरो प्रमुख के राधाकृष्णन ने बताया कि 1,425 किग्रा वजन वाला यह उपग्रह अपने प्रक्षेपण के 20 मिनट बाद निर्धारित कक्षा में सटीक तरीके से प्रविष्ट हो गया। यह इस दुर्लभ नौवहन प्रणाली का प्रथम चरण है। उन्होंने बताया कि आईआरएनएसएस-1ए के प्रक्षेपण पर 125 करोड़ रुपये की लागत आई।
   
प्रक्षेपण के बाद राधाकृष्णन ने कहा इससे साबित होता है कि पीएसएलवी एक अत्यंत भरोसेमंद प्रक्षेपक वाहन है और इस उड़ान के साथ हम देश में अंतरिक्ष अनुप्रयोग के एक नये युग में प्रवेश कर रहे हैं, जो उपग्रह नौवहन कार्यक्रम की शुरुआत है।
   
इसरो के वैज्ञानिकों ने अपनी इस सफलता का जश्न मनाया और राधाकृष्णन ने कहा यह घोषणा करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है कि हमारे पीएसएलवी वाहन की यह एक और शानदार उड़ान थी। यह पीएसएलवी की लगातार 23वीं सफल उड़ान तथा पीएसएलवी के उन्नत संस्करण की चौथी सफल उड़ान थी।
   
आईआरएनएसएस अमेरिका के ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम (जीपीएस), रूस के ग्लोबल ऑर्बिटिंग नैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (जीएलओएनएएसएस), यूरोपियन यूनियन्स गैलीलियो (जीएनएसएस), चीन के बेइदोउ सैटेलाइट नैविगेशन सिस्टम और जापान के कासी-जेनिथ सैटेलाइट सिस्टम जैसा ही होगा।
   
नौवहन उपग्रह आईआरएनएसएस के अनुप्रयोगों में नक्शा तैयार करना, जियोडेटिक आंकड़े जुटाना, समय का बिल्कुल सही पता लगाना, चालकों के लिए दृश्य और ध्वनि के जरिये नौवहन की जानकारी, मोबाइल फोनों के साथ एकीकरण, भूभागीय हवाई तथा समुद्री नौवहन तथा यात्रियों तथा लंबी यात्रा करने वालों को भूभागीय नौवहन की जानकारी देना आदि शामिल हैं।
   
आईआरएनएसएस के सात उपग्रहों की यह श्रंखला स्पेस सेगमेंट और ग्राउंड सेगमेंट दोनों के लिए है। आईआरएनएसएस के तीन उपग्रह भूस्थिर कक्षा (जियोस्टेशनरी ऑर्बिट) के लिए और चार उपग्रह भूस्थैतिक कक्षा (जियोसिन्क्रोनस ऑर्बिट) के लिए हैं। यह श्रृंखला वर्ष 2015 से पहले पूरी होनी है।
   
आईआरएनएसएस के इस मिशन की मियाद 10 साल की है। इस श्रृंखला का अगला उपग्रह आईआरएनएसएस 1बी वर्ष 2014 के शुरू में प्रक्षेपित किया जाएगा। समझा जाता है कि सातों उपग्रह वर्ष 2015 तक कक्षा में स्थापित कर दिए जाएंगे और तब आईआरएनएसएस प्रणाली शुरू हो जाएगी।
   
राधाकृष्णन ने बताया कि 300 करोड़ रुपये ग्राउंड सेगमेंट के लिए अलग रखे गए हैं। लगभग हर उपग्रह पर 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी। यह उपग्रह उप भूस्थैतिक स्थानांतरण कक्षा (सब-जियोसिन्क्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट) में 284 किमी दूर प्रक्षेपित किया गया, जो पृथ्वी का सबसे निकटतम स्थान है। इसका उच्चतम लक्ष्य 20,650 किमी (पृथ्वी का सबसे दूरस्थ स्थान) के आसपास रखा गया था और इसने उसे 20,625 किमी तक लक्ष्य प्राप्त कर लिया।
   
देर रात को यह इसरो का अब तक का पहला प्रक्षेपण था। इस बारे में संस्थान के एक अधिकारी ने बताया कक्षा के मानकों के आधार पर प्रक्षेपण का समय तय किया गया। आईआरएनएसएस-1ए के लिए आधी रात को प्रक्षेपण की जरूरत थी।
   
पूर्व में पीएसएलवी-सी22 के दूसरे चरण में इलेक्ट्रोहाइड्रोलिक कंट्रोल एक्चुएटर्स में से एक में खराबी आने की वजह से इसरो ने 12 जून को नियत आईआरएनएसएस-1ए का प्रक्षेपण एक पखवाड़े के लिए टाल दिया था। खामी दूर करने के बाद प्रक्षेपण की नयी तारीख एक जुलाई तय की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अमेरिका की GPS प्रणाली का विकल्प होगा नौवहन उपग्रह