DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरिद्वार और ऋषिकेश को पतंजलि योगपीठ लेगा गोद

हरिद्वार और ऋषिकेश को पतंजलि योगपीठ लेगा गोद

पतंजलि योगपीठ राष्ट्रीय स्वच्छता संकल्प के तहत हरिद्वार और ऋषिकेश को गोद लेकर उसकी तीर्थ गरिमा वापस दिलाने का काम करेगा। इस बात की घोषणा योगगुरु बाबा रामदेव ने पतंजलि योगपीठ की ओर से आयोजित स्वच्छता आंदोलन पखवाड़े के समापन पर की। उन्होंने कहा कि हरिद्वार और ऋषिकेश संपूर्ण विश्व के लिए सम्माननीय तीर्थ हैं। विश्व में भारत को इनसे भी पहचान मिलती है। यहां कचरा दिखता है तो सम्पूर्ण विश्व में भारत का सिर शर्म से झुक जाता है। इन दोनों अध्यात्मिक नगरों को गोद लेने का हमारा आशय है ‘भारत’ को वैश्विक गौरव दिलाने की दिशा में एक कदम बढ़ाना।

बाबा रामदेव ने कहा कि हम कचरा रिप्रोसेसिंग पर भी विचार कर रहे हैं। स्वच्छ, स्वस्थ और शिक्षित भारत हमारा सपना है। स्वच्छता के लिए देश को विश्व स्तरीय स्वच्छता प्रबंध और उच्च स्तरीय तकनीक की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश के लोगों ने गंदगी को जीवन का अंग बना लिया है। पतंजलि योगपीठ अपने प्रयासों से इस मानसिकता को बदलेगा। उन्होंने बताया कि देश के 600 जिलों में फैले पतंजलि योगपीठ के लाखों कार्यकर्ता रोजाना दो घंटे ‘राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान’ के लिए देकर अपने जिलों को ‘स्वच्छ आदर्श जिला’ का दर्जा दिलाने को कृत संकल्पित हैं।

उन्होंने स्वच्छ भारत के लिए सरकार, समाज के अग्रणी व्यक्ति और आमजन की सामूहिक संकल्पता पर जोर दिया। कहा कि हरिद्वार क्षेत्र की सफाई के लिए हर साल लाखों करोड़ों रुपये का ठेका दिया जाता है। इसके बाद भी कनखल से हरिद्वार तक जगह जगह पॉलीथिन, गंदगी, कांच, प्लास्टिक आदि के ढेर नजर आते हैं। पतंजलि योगपीठ के कार्यकर्ता स्वयं सफाई करने के साथ साथ स्वच्छता में जन भागीदारी का वातावरण निर्मित करेंगे।

वहीं आचार्य बालकृष्ण ने कहा दिव्य योग मंदिर के निकट स्वच्छता अभियान चलाने के पीछे संदेश यह है कि स्वच्छता अभियान की शुरुआत अपने घर से होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान ब्रह्म आराधना से कम नहीं है। बीते दो अक्तूबर को प्रारम्भ पतंजलि योगपीठ के ‘स्वच्छता अभियान पखवाड़े’ की शुरुआत बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने बड़े पैमाने पर स्वच्छता अभियान चलाते हुए शुरू की थी।

अभियान के दौरान पूरे हरिद्वार से कूड़ा एकत्रित कर नगर निगम के निर्देशित स्थान तक पहुंचाया गया। इस अभियान में भारत स्वाभिमान आंदोलन के मुख्य केन्द्रीय प्रभारी डॉ़ राकेश कुमार, मुख्य महिला केन्द्रीय प्रभारी डॉ़ सुमन, डॉ़ यशदेव शास्त्री, मेयर मनोज गर्ग सहित पतंजलि योग समिति, महिला पतंजलि योग समिति, युवा भारत, किसान पंचायत के कार्यकर्ता, पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज, पतंजलि विश्वविद्यालय के शिक्षक, प्राचार्य, छात्रा, छात्राएं और हजारों की संख्या में सेवाव्रती भाई-बहन शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरिद्वार और ऋषिकेश को पतंजलि योगपीठ लेगा गोद