फोटो गैलरी

Hindi Newsरूस में हिटलर का नाम लेने पर होगी जेल

रूस में हिटलर का नाम लेने पर होगी जेल

रूस अब एक नया कानून बनाने जा रहा है, जिसके तहत जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर की बात करने अथवा नाजी विचारधारा का प्रचार करने पर पांच वर्ष की कैद और 15 हजार डॉलर का जुर्माना हो सकता है।...

रूस में हिटलर का नाम लेने पर होगी जेल
एजेंसीTue, 25 Jun 2013 12:04 PM
ऐप पर पढ़ें

रूस अब एक नया कानून बनाने जा रहा है, जिसके तहत जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर की बात करने अथवा नाजी विचारधारा का प्रचार करने पर पांच वर्ष की कैद और 15 हजार डॉलर का जुर्माना हो सकता है।
      
रूस की रिया नोवोस्ती संवाद समिति ने सत्तरूढ यूनाईटेडरशिया पार्टी की सांसद इरीना यारोव्या के हवाले से कल इस बारे में जानकारी दी। इस कानून पर अभी संसद के निचले सदन डय़ूमा में बहस होनी है। इसमें सोवियत संघ की लाल सेना के ऐतिहासिक योगदान को झुठलाने तथा उसकी निंदा करने पर भी सजा का प्रावधान किया गया है।
       
यारोव्या ने कहा कि द्वितीय विश्वयुद्ध में सोवियत संघ ने एक संरक्षक की भूमिका अदा की थी और हमारी सेना के तमाम कार्य बस विश्व को नाजी जर्मनी से मुक्ति दिलाने के लिये थे।

यारोव्या ने कहा कि नाजी जर्मनी को हराने में लाल सेना की भूमिका की निंदा करना दरअसल ऐतिहासिक तौर पर निष्पक्ष जानकारियों को उलटने का काम करता है और इसमें संयुकत राष्ट्र के उस चार्टर का भी उल्लंघन होता है, जो नाजी विचारधारा को सही ठहराने के प्रयासों को प्रतिबंधित करता है।
       
यह प्रस्तावित विधेयक पूर्व सोवियत तथा कम्युनिस्ट देशों में जोरपकडती जा रही लाल सेना विरोधी मुहिम को काबू करने का काम करेगा। लाल सेना पर युद्धबंदियों की हत्या तथा बुरे बर्ताव, बडे पैमाने पर पूर्वी यूरोपीय जर्मन तथा फिन लोगों को दूसरी जगह भेजने तथा बलात्कार के आरोप लगते रहे हैं। 
       
उल्लेखनीय है कि सोवियत संघ पर वर्ष 1940 के दौरान कात्यान के जंगलों में पोलिश सेना के 22 हजार पोलिश सैन्य अधिकारियों की हत्या का भी आरोप है। सोवियत संघ वर्षों तक उन्हें नाजी जर्मनी का सहयोगी करार देकर इस आरोप से अपना पीछा छुडाता रहा और वर्ष 1990 में परिवर्तन की हवा बहने के बाद ही उसने स्वीकार किया कि सोवियत नेता जोसेफ स्टालिन के आदेश पर ही शेल सैनिकों की हत्या करायी गई।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें