DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने बीसीसीआई और लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लेकर चल रहे विवादों पर अपनी बात रखते हुए कहा है इस मुद्दे पर कोई भी प्रतिक्रिया देना अनुचित होगा। उन्होंने बड़े सधे हुए अंदाज में इस विवाद पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा 'व्यक्तिगत रूप से मेरा मानना है कि मुझे अपने करियर में बोर्ड से काफी मदद मिली। केवल मैं ही नहीं बल्कि अन्य भातीय क्रिकेटरों का भी बोर्ड ने पूरा ध्यान रखा और उन्हें आगे बढ़ने के पूरे मौके भी दिये। हालांकि हर संगठन में सुधार की गुंजाइश होती है और बीसीसीआई में भी है।'

सचिन तेंदुलकर ने हिंदुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट में यह बात कही। उनसे जब इस मुद्दे पर राय पूछी गई तो उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय का फैसला लंबित होने के कारण लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर प्रतिक्रिया देना 'अनुचित होगा।' लेकिन बीसीसीआई का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि बोर्ड ने देश में खेल के लिए काफी कुछ किया है।

उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त लोढ़ा पैनल ने बीसीसीआई में आमूल चूल परिवर्तन की सिफारिश की है लेकिन क्रिकेट बोर्ड कुछ सिफारिशों को मानने से इंकार कर रहा है। बोर्ड ने कल दिल्ली में अपनी विशेष आम बैठक में इसी रुख को दोहराया और सचिव अजय शिर्के ने बैठक के बाद कहा कि बोर्ड इस मामले में उच्चतम न्यायालय के पांच दिसंबर के फैसले का इंतजार करेगा।  

बोर्ड की आपत्ति 70 साल की आयु सीमा, दो कार्यकाल के बीच तीन साल की कूलिंग अवधि और एक राज्य एक वोट की नीति को लेकर है।

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश
लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश

सचिन ने अपने जीवन से जुड़े खोले कई राज

इसके साथ हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट (HTLS) के दूसरे दिन खेल जगत की मशहूर हस्ती और राज्यसभा सांसद सचिन तेंदुलकर ने अपनी जिंदगी से जुड़े कई सीक्रेट्स भी शेयर किए। उन्होंने कहा कि संन्यास लेने बाद भी वह क्रिकेट को मिस करते हैं, इतने सालों से जो प्यार मिला उसे भुला नहीं पाया हूं।

उन्होंने कहा 'वीरेंद्र सहवाग को बल्लेबाजी करते हुए देखने में सबसे ज्यादा मजा आता था, पता नहीं चलता था कि वीरू अगली गेंद पर क्या करने वाला है।'

 

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश
लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश

टेस्ट क्रिकेट मरा नहीं, बल्कि लोगों की सोच बदल रही

HT समिट में जब सचिन से पूछा गया कि क्या टेस्ट क्रिकेट फॉर्मेट अब खत्म होता जा रहा है? तो इस पर सचिन ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट नहीं मर रहा है, बस लोगों की सोच बदल रही है। T-20 और तकनीक के आने से लोगों की रुचि बदल गई है। सचिन तेंदुलकर ने कहा 'मैं टेस्ट क्रिकेट देखते हुए बड़ा हुआ हूं और आज की पीढ़ी T-20 देखती है। टेस्ट में लोगों की रुचि कम होने पर सचिन ने कहा कि दर्शकों को बांधे रखने के लिए जरूरी है कि टेस्ट क्रिकेट में गेंद और बल्ले के बीच बराबरी की टक्कर हो। 

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश
लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश

सचिन सौरभ गांगुली को बुलाते थे 'दादी'

1.मैं सौरभ गांगुली को कभी-कभी दादा की जगह 'दादी' बुलाता था।

2.दूसरे खेलों में रोजर फेडरर मेरे पसंदीदा खिलाड़ी हैं। 

3.बतौर सांसद अब ऐसे कई काम कर पा रहा हूं जो क्रिकेट खेलने के दौरान नहीं कर पा रहा था।

4.कैरेबियाई बल्लेबाज ब्रायन लारा महानतम खिलाड़ी, रिकी पोंटिंग की तरह कोई पूल शॉट नहीं खेल सकता। 

5.भारत में सेहत को लेकर गंभीरता काफी कम है। स्वच्छ भारत के साथ स्वस्थ भारत का भी नारा होना चाहिए।

 

INDvsENG ODI SERIES: इन बड़े नामों के बिना उतर सकती है टीम इंडिया

इन मिठाई के नामों पर रखे गए हैं एंड्रॉएड के ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम​

 

लोढ़ा समिति और BCCI विवाद में बोले सचिन, BCCI में सुधार की गुंजाइश
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: sachin tendulkar says any comment on bcci and lodha pannel issue would be unfair