DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरक्षा की कसौटी पर परखे जाएंगे हानिकारक मोबाइल हैंडसेट

सुरक्षा की कसौटी पर परखे जाएंगे हानिकारक मोबाइल हैंडसेट

सस्ते एवं कम ब्रांडेड कंपनियों के हैंडसेट में शीशा, मरकरी और केडमियम जैसे हानिकारक पदार्थों का इस्तेमाल हो रहा है। इन पदार्थों का तय सीमा से ज्यादा प्रयोग उपभोक्ताओं के शरीर पर बुरा असर डालता है। मोबाइल हैंडसेट के निर्माण में एसएआर (स्पेसिफिक अर्ब्जोप्शन रेट) की मात्रा तय सीमा 1.6 वाट प्रति किलोग्राम से अधिक मिली है। ब्रांडेड कंपनियों के फोन में भी एसएआर 1.56 तक जा पहुंची है। इसके चलते अब सभी मोबाइल फोन कंपनियों को बीआईएस में पंजीकरण कराना होगा। बीआईएस द्वारा जारी सुरक्षा मानकों के आधार पर हैंडसेट बनेंगे और उन पर बीआईएस की मुहर भी लगेगी।

दूरसंचार मंत्रालय, स्वास्थ्य विभाग और बीआईएस की एक संयुक्त पहल के तहत यह पता लगाया गया कि मोबाइल हैंडसेट के निर्माण में कौन से हानिकारक पदार्थों का इस्तेमाल हो रहा है। मोबाइल हैंडसेट या बैटरी गर्म होने जैसी शिकायतें मिलने के बाद स्वास्थ्य की दृष्टि से भी जांच-पड़ताल कराई गई। देखने को मिला कि कई लोग जिनके फोन की एसएआर तय सीमा से ज्यादा मिली, वे गुस्से और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों से पीडि़त थे। उनके मस्तिष्क और त्वचा की कोशिकाओं पर बुरा असर पड़ रहा था। कई कंपनियां जो सस्ते मोबाइल हैंडसेट बनाती हैं, उनमें एसएआर की मात्रा 1.96 से लेकर 2.30 तक पाई गई है। 

इस तरह समझें रेडिएशन एनर्जी का दुष्प्रभाव
मोबाइल हैंडसेट बनाते वक्त मर्करी, केडमियम, शीशा और हेक्सावेलेंट क्रोमियम जैसे हानिकारक पदार्थों का इस्तेमाल होता है। हालांकि इनके प्रयोग की एक सीमा तय की गई है, लेकिन कई कंपनियां अपने हैंडसेट में बड़े स्तर पर इनका इस्तेमाल करती हैं। इसके चलते फोन में रेडिएशन एनर्जी की मात्रा बढ़ जाती है। मानव शरीर में इस एनर्जी को सहने की एक निश्चित सीमा होती है, जिसे स्पेसिफिक अर्ब्जोप्शन रेट (एसएआर) कहा जाता है। बीआईएस ने अब एसएआर की अधिकतम सीमा 1.6 वाट प्रति किलोग्राम तय की है। यदि हैंडसेट में एसएआर उक्त सीमा से ज्यादा है तो मोबाइल से निकलने वाली हानिकारक रेडियो किरणे ब्रेन, कान और त्वचा की कोशिकाओं पर दुष्प्रभाव डालती हैं। इसे यूं भी समझ सकते हैं। जैसे किसी व्यक्ति का वजन सौ किलो है तो मानक के हिसाब से उसका शरीर 160 वाट की ऊर्जा प्रति सेकेंड ले सकता है। इससे ज्यादा ऊर्जा आती है तो वह हानिकारक है। लंबी बात करने पर हैंडसेट का गर्म होना या बैटरी फटने की वजह भी हानिकारक पदार्थों का इस्तेमाल है।

मानक के दायरे में आए एप्पल व ब्लैकबेरी
ग्राहकों की सुरक्षा के लिए भारत मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने हैंडसेट से लेकर बैटरी तक फोन के हर पुर्जे का सुरक्षा मानक तैयार कर दिया है। इसके तहत एप्पल व ब्लैकबेरी सहित 67 देशी-विदेशी मोबाइल फोन कंपनियों ने अपने 497 मॉडल पंजीकरण करा दिए हैं। भले ही हैंडसेट का निर्माण देश-विदेश में कहीं पर भी हो, लेकिन उसे बीआईएस के मानकों का पालन करना होगा। हर कंपनी को अपने हैंडसेट का प्रत्येक मॉडल बाजार में उतारने से पहले बीआईएस की लैब में भेजना होगा। चूंकि इन कंपनियों ने सामान्य सुरक्षा के लिए जरूरी तमाम प्रावधान लागू करने की बात कही है, इसलिए जांच रिपोर्ट सही होने पर इन्हें प्रत्येक हैंडसेट पर बीआईएस की मुहर लगानी होगी।

ये सावधानियां बरतें
-बातचीत के लिए कम पावर वाले ब्लूटूथ का इस्तेमाल
-हैडफोन या वायरलैस फोन ज्यादा फायदेमंद है
-लंबी बात की बजाए छोटी बात करें, एसएमएस का ज्यादा प्रयोग किया जाए
-सिग्नल क्वालिटी अच्छी नहीं है तो बात करने से परहेज करें
-शरीर में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे पेसमेकर, कान में मशीन लगना या फिर ब्रेन सर्जरी हुई है तो 15 सैं. मी. दूरी से मोबाइल फोन का इस्तेमाल करें
-बच्चों और गर्भवती महिलाओं को लंबी बात करने से बचना चाहिए

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुरक्षा की कसौटी पर परखे जाएंगे हानिकारक मोबाइल हैंडसेट